गिरिराज सिंह का आचार संहिता उल्लंघन मामले में ‘चट सरेंडर पट जमानत’

गिरिराज सिंह पर मुसलमानों के खिलाफ भड़काऊ बयान देने का आरोप लगा था. इलेक्शन कमीशन ने नोटिस दिया था. गिरिराज सिंह सरेंडर करने पहुंचे थे.

गिरिराज सिंह बिहार के बेगूसराय से बीजेपी प्रत्याशी हैं. उन्हें आचार संहिता उल्लंघन के मामले में शिकायत पर नोटिस मिला था. आज यानी मंगलवार को उन्होंने बेगूसराय लोकल कोर्ट में सीजेएम अमन कुमार के सामने सरेंडर किया. सरेंडर के तुरंत बाद उन्हें जमानत मिल गई.

विवादित बयानों से बवाल मचाने वाले गिरिराज सिंह पर इस इलेक्शन के दौरान भी खूब सुर्खियां बनीं. 24 अप्रैल को जीडी कॉलेज में अमित शाह की जन सभा थी. उसी के दौरान गिरिराज ने कहा था कि ‘जो व्यक्ति वंदे मातरम नहीं कह सकता है, वह अपनी मातृभूमि की पूजा कैसे कर सकेगा. मेरे पिता और दादा की मृत्यु गंगा किनारे हुई थी और उन्हें कब्र की जरूरत भी नहीं पड़ी थी. लेकिन तुम्हे मरने के बाद भी तीन हाथ जमीन की जरूरत है. इसके बाद भी अगर ऐसा करते हो तो देश तुम्हें कभी माफ नहीं करेगा.’

सिटी पुलिस स्टेशन में इस पर एफआईआर दर्ज कराई गई थी. उसी मामले में गिरिराज सिंह ने सरेंडर किया और जमानत लेकर बाहर आए. कहा कि मैं कानून का सम्मान करता हूं. मेरे ऊपर मामला गलतफहमी में दर्ज कराया गया था, मैंने तो बस लोगों को सलाह दी थी.

ये भी पढ़ें:

वरुण गांधी ने फिर याद किया, पाकिस्तान को आई हिचकी!

क्या अब हिंदू-मुस्लिम की पॉलिटिक्स में हाथ आजमाना चाहते हैं मार्क्सवादी सीताराम येचुरी?

मुस्लिमों पर बयान को लेकर चुनाव आयोग ने गिरिराज सिंह को भेजा नोटिस

गिरिराज ने कहा, ‘कब्र के लिए तीन हाथ जमीन चाहिए तो वंदे मातरम गाना होगा,’ EC ने भेजा नोटिस