दिल्ली में आप-कांग्रेस गठबंधन को लेकर आ सकती है चौंकाने वाली खबर

दिल्ली में आप-कांग्रेस का गठबंधन बीरबल की खिचड़ी की तरह हो चुका है. लेकिन अब इसमें नया मोड़ आ सकता है.

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के बीच का गठबंधन तो ऐसा हो गया है मानों बीरबल की खिचड़ी. कभी राहुल गांधी दरवाजा खोले रहते हैं तो कभी आम आदमी पार्टी के गोपाल राय दरवाजा खोल देते हैं. अब गोपाल राय ने गठबंधन को लेकर कहा है कि हरियाणा में 7-2-1 का फॉर्मूला और दिल्ली में 4-3 का प्रस्ताव कांग्रेस को भेजा है. अब राहुल के जवाब का इंतज़ार है.

गोपाल राय का बयान
दिल्ली प्रदेश संयोजक गोपाल राय ने कहा कि आप और कांग्रेस के साथ गठबंधन के दरवाजे अभी खुले हुए हैं. उन्होंने कहा कि कल होने वाले आम आदमी पार्टी के उम्मीदवारों के नामांकन को रोका गया अब सभी उम्मीदवार 22 तारीख को नामांकन भरेंगे. गोपाल राय के बयान से यही साबित हो रहा है कि अभी भी उनको गठबंधन की आशाएं दिख रही है तभी पार्टी ने उम्मीदवारों को नामांकन भरने से मना किया है. गोपाल राय ने कहा कि आज कांग्रेस के पास आखिरी मौका है अगर वो मानती है तो गठबंधन हो जाएगा.

राहुल गांधी ने पहले दिया था इशारा
गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले ही दिल्ली में आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के गठबंधन को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सकारात्मक ट्वीट किया था. कांग्रेस अध्यक्ष ने ट्वीट करते हुए लिखा था कि हम गठबंधन करने के लिए तैयार है लेकिन मिस्टर केजरीवाल यू टर्न ले रहे हैं. इस ट्वीट के बाद आप के कई नेताओं ने इसका जवाब भी दिया था.

ये भी पढ़ें- कांग्रेस-आप गठबंधन गेम में एक बार फिर आया नया ट्विस्‍ट

संजय सिंह ने राहुल पर किया था पलटवार
आप नेता संजय सिंह ने राहुल गांधी के ट्वीट का जवाब देते हुए लिखा था, “पंजाब में AAP के 4 सांसद 20 विधायक Cong एक भी सीट नहीं देना चाहती, हरियाणा जहाँ Cong का एक सांसद वहाँ भी Cong एक सीट नहीं देना चाहती, दिल्ली जहाँ Cong के 0 MLA 0 MP वहाँ आप हमसे 3 सीट चाहते हैं क्या ऐसे होता है समझौता? आप दूसरे राज्यों में भाजपा को क्यों नहीं रोकना चाहते?

सीएम केजरीवाल ने भी दिया था जवाब
राहुल गांधी के ट्वीट पर अरविंद केजरीवाल ने भी ट्वीट कर जवाब दिया था,”कौन सा U-टर्न?अभी तो बातचीत चल रही थी आपका ट्वीट दिखाता है कि गठबंधन आपकी इच्छा नहीं मात्र दिखावा है. मुझे दुःख है आप बयान बाज़ी कर रहे हैं आज देश को मोदी-शाह के ख़तरे से बचाना अहं है।दुर्भाग्य कि आप UP और अन्य राज्यों में भी मोदी विरोधी वोट बाँट कर मोदी जी की मदद कर रहे हैं”

ये भी पढ़ें- AAP के साथ गठबंधन पर कांग्रेस में फिर माथापच्ची, आखिर क्यों अटका है मामला?