पश्चिम बंगाल में BJP के लिए प्रचार करता दिखा ईश्‍वर चंद्र विद्यासागर का ‘हमशक्‍ल’

ऐसा माना जा रहा है कि बंगाल में हिंसा को लेकर बीजेपी की छवि खराब हुई, जिसके बाद अपनी छवि सुधारने के लिए पार्टी ने विद्यासागर जैसे दिखने वाले आदमी को अपने कैम्पेन में शामिल किया ताकि अपनी छवि को सुधारा जा सके.

कोलकाता: पश्चिम बंगाल में पिछले कुछ समय से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के बीच तनातनी ज्यादा बढ़ गई है. लोकसभा चुनाव के बीच राज्य में कई हिंसा की खबरें सामने आईं, जिन्हें लेकर टीएमसी और बीजेपी एक दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं.

मंगलवार को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो पर हमला किया गया था, जिसमें उपद्रवियों ने विद्यासागर कॉलेज में घुसकर भी उत्पात मचाया और वहां रखी ईश्वर चंद्र विद्यासागर की मूर्ति को तोड़ दिया था. एक तरफ तो विद्यासागर की मूर्ति को तोड़ने का आरोप लगाते हुए बीजेपी ने टीएमसी को घेरा. वहीं दूसरी ओर गुरुवार को बीजेपी की एक रैली में ईश्वर चंद्र विद्यासागर पार्टी उम्मीदवार के लिए चुनाव प्रचार करते हुए नजर आए.

एनडीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार, बीजेपी ने अभिनेता कृष्ण बैरागी को अपने उम्मीदवार अनुपम हाजरा के समर्थन में प्रचार करने के लिए बुलाया था. अभिनेता को बिलकुल ईश्वर चंद्र विद्यासागर का गेटअप दिया गया. उन्होंने धोती, शॉल पहने और हाथ में किताब लिए बीजेपी के लिए कैम्पेन किया.

ऐसा माना जा रहा है कि बंगाल में हिंसा को लेकर बीजेपी की छवि खराब हुई, जिसके बाद अपनी छवि सुधारने के लिए पार्टी ने विद्यासागर जैसे दिखने वाले आदमी को अपने कैम्पेन में शामिल किया ताकि अपनी छवि को सुधारा जा सके.

रिपोर्ट के अनुसार, जाधवपुर लोकसभा सीट से बीजेपी उम्मीदवार अनुपम हाजरा ने इसे लेकर कहा कि विद्यासागर की मूर्ति को तोड़ना एक षड़यंत्र के तहत हुआ ताकि बीजेपी की छवि खराब की जा सके.

अभिनेता को विद्यासागर के रूप में कैम्पेन में इस्तेमाल करने पर बात करते हुए हाजरा ने कहा, “मैं केवल यह दिखाने की कोशिश कर रहा हूं कि हमारे अंदर उनके (विद्यासागर) के प्रति बहुत सम्मान है.”