VIDEO में पीठ पर बैग टांगे दिखा संदिग्ध आतंकी, श्रीलंका में सीरियल ब्लास्ट की जिम्मेदारी IS ने ली

बीते रविवार को श्रीलंका के मशहूर सेंट सेबेस्टियन चर्च में घुसते हुए एक संदिग्ध आत्मघाती हमलावर का CCTV फुटेज भी सामने आया है.

कोलंबो: ईस्टर संडे पर श्रीलंका में हुए सीरियल बम धमाकों की जिम्मेदारी खूंखाल आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट ने ली है. इस्लामिक स्टेट ने अपनी अमाक न्यूज एजेंसी के जरिए इस वीभत्स आतंकी घटना की जिम्मेदारी ली है.

बीते रविवार को श्रीलंका के मशहूर सेंट सेबेस्टियन चर्च में घुसते हुए एक संदिग्ध आत्मघाती हमलावर का CCTV फुटेज भी सामने आया है. वीडियो में संदिग्ध हमलावर के पीठ पर एक बैग टंगा दिखाई दे रहा है. ये वीडियो मिलने से पहले श्रीलंका सरकार की ओर से जानकारी दी गई थी कि चर्च और होटलों में हुए धमाके न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च हमले का बदला लेने के लिए किए गए थे.

लंका में हुए इस भीषण आतंकी हमले में आईएसआईएस का नाम आया है. इस आतंकी संगठन ने इसकी जिम्मेदारी ली है. इस बारे में पहले अटकलें लगाई जा रही थी कि जिस आतंकी संगठन नेशनल तौहीद जमात का नाम इस हमले में आ रहा है उसमें काफी ऐसे लोग हैं जो श्रीलंका से आईएसआईएस को ज्वाइन करने के लिए इराक सीरिया गए भी थे और बाद में लौटे भी हैं. माना जाता है कि श्रीलंका से करीब 150 ऐसे लोग हैं जो आईएसआईएस के लिए लड़ने के लिए यहां से गए थे.

अब तक क्या-क्या हुआ

श्रीलंका की सुरक्षा एजेंसिया इस हमले की पूरी जांच करने में जुटी हुई हैं. इस्लामिक स्टेट के जिम्मेदारी लेने के बाद भी वो जांच हर एंगल से कर रही हैं. पूरी दुनिया में इस आतंकी घटने की निंदा की जा रही है.

रविवार को हुए हमले में कम से कम 500 लोग घायल हो गए जिसमें से कई की हालत गंभीर है. सरकार का कहना है कि इस हमले को श्रीलंकाई मुस्लिम ग्रुप नेशनल तौहीद जमात (एनटीजे) ने अंजाम दिया है.

इस हमले को लेकर स्वास्थ्य मंत्री राजिथा सेनारत्ने ने मीडिया से कहा था, “एनटीजे इसमें शामिल है. यह एक स्थानीय संगठन है. अभी हमें पता नहीं है कि क्या वे बाहरी लोगों से मिले हुए हैं. गिरफ्तार किए गए सभी लोग स्थानीय हैं. लेकिन, बिना किसी अंतर्राष्ट्रीय नेटवर्क के इस तरह के हमले को अंजाम नहीं दिया जा सकता.”

सेनारत्ने ने कहा कि यह सुनियोजित हमले ‘पूर्णतया खुफिया विफलता हैं.’ उन्होंने कहा कि पूर्व में सूचना होने के बावजूद इसे रोका नहीं जा सका. उन्होंने मांग की कि पुलिस महानिरीक्षक को इस्तीफा दे देना चाहिए.

सरकार ने कहा कि वह मंगलवार को सार्वजनिक श्रद्धांजलि सभा करेगी जिसमें मृतकों को श्रद्धांजलि दी जाएगी. पूरे देश में स्कूल जहां बंद रहे वहीं सड़क पर कम ही लोग निकले श्रीलंका शोकग्रस्त अवस्था में है.

पुलिस ने कहा है कि उस वाहन को जब्त कर लिया गया है जिसमें संदिग्धों को एक जगह से दूसरे जगह पहुंचाया गया. इसके साथ ही उसने उस घर पर भी छापेमारी की है जिसे हमलावरों द्वारा इस्तेमाल किया गया था. करीब दो दर्जन संदिग्धों को अब तक गिरफ्तार किया गया है.

कुछ सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी प्रतिबंध लगाया गया है जिससे गलत सूचना न फैल सके. ईस्टर के मौके पर हुए आठ विस्फोटों में से सबसे पहले रविवार सुबह कोलंबो के तीन लक्जरी होटलों सिनेमन ग्रैंड, शांगरी-ला, किंग्सबरी और कोलंबो, नेगोंबो और बट्टिकालोआ स्थित चर्च में विस्फोट हुए.

इसके बाद दोपहर में, कोलंबो के देहिवाला में चिड़ियाघर के पास एक विस्फोट हुआ जिसमें दो लोगों की मौत हो गई और डेमाटोगोडा में एक आवासीय परिसर में एक और विस्फोट हुआ जिसमें तीन पुलिसकर्मियों की मौत हो गई.

श्रीलंका में चर्चों और होटलों में हुए सीरियल धमाकों में मरने वालों की संख्या बढ़कर 321 पहुंच गई है. सोमवार को एक बस स्टैंड में करीब 87 बम बरामद किए गए. राजधानी कोलंबो में सोमवार दोपहर बम डिफ्यूज करते वक्त एक और धमाका हुआ. इसमें कोई हताहत नहीं हुआ. ब्लास्ट सेंट एंथोनी चर्च के पास हुआ, जहां रविवार को भी आतंकियों ने धमाका किया था. इनमें जेडीएस के 6 नेताओं समेत 10 भारतीय शामिल हैं. 33 विदेशी नागरिकों के मारे जाने की पुष्टि हुई है. श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना ने इमरजेंसी की घोषणा की है.