कन्हैया कुमार ने भरा नामांकन, बोले ‘नेता नहीं बेगूसराय का बेटा हूं मैं’

आज बेगूसराय की सीट पर सारे देश की नजर बनी हुई है. लोगों के मुताबिक कन्हैया कुमार एकलौते हैं जो प्रधानमंत्री से आंख में आंख मिलाकर बात कर सकते हैं.

नई दिल्ली: बेगूसराय में अपना नॉमिनेशन भरने के बाद जेएनयू के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने एक जनसभा आयोजित की. कन्हैया कुमार के समर्थन में गुजरात के युवा विधायक जिग्नेश मेवानी, जेएनयू के पूर्व उपाध्यक्ष शहला रशीद समेत नेता इस मौके पर मौजूद रहे. कन्हैया के बेगूसराय लोकसभा सीट से नामांकन दाखिल करने के समय कन्हैया की दोस्त स्वरा भी दिखाई पड़ीं.

कन्हैया कुमार ने जनता से अपील करते हुए कहा कि अब आपको तय करना है कि आपको गंगा पार और एसी में रहने वाले नेता चाहिए या फिर अपनी मिट्टी का लाल चाहिए. अपनी बात को काटते हुए कन्हैया कुमार ने ये भी कहा कि मैं कोई नेता नहीं बल्कि बेगूसराय का बेटा हूं.

नॉमिनेशन के वक्त एकट्ठा हुई भीड़ को देखकर कन्हैया काफी खुश नजर आए और कहा कि आज मेरे विरोधी ये जान गए होंगे कि 29 अप्रैल को किसके हिस्से में सबसे ज्यादा वोट आएंगे और 23 मई की जीत किसके नाम दर्ज होगी.

इस जनसभा के दौरान कन्हैया कुमार ने गिरिराज सिंह एवं नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा, और कहा कि बेगूसराय लोकसभा सीट आज प्रधानमंत्री के लिए प्रतिष्ठा का सवाल बन गई है. प्रतिष्ठा बचाने के लिए मोदी जी ने गिरिराज सिंह को अपना मोहरा बना लिया है, इसीलिए बेगूसराय से उनको टिकट दी है.

कन्हैया कुमार ने तनवीर हसन को टारगेट करते हुए कहा कि वो भले ही अपनी स्पीच में मुझे बच्चा बच्चा कहकर बुलाते हैं, लेकिन आज ये बच्चा सबपर भारी पड़ रहा है.

इसके अलावा कन्हैया कुमार ने कश्मीर में धारा 370 हटाने को संविधान के साथ छेड़छाड़ बताया और इसका विरोध भी किया. धारा 370 हटना चाहिए या नहीं के सवाल पर कन्हैया ने एक ही जवाब मांगा कि बेगूसराय में विश्वविद्यालय, ऐम्स ,नई फैक्ट्री और आईआईटी की बनाए जाने चाहिए या नहीं? कन्हैया कुमार के हिसाब से आज के नेता डेवलपमेंट के अलावा सारी बातें करते हैं, नेताओं को सिर्फ हिंदू मुस्लिम, हिंदुस्तान पाकिस्तान, धारा 370 जैसे मुद्दों को उठाकर जनता का ध्यान बंटाना आता है.