मथुरा में ऐसा क्या हुआ कि प्रियंका चतुर्वेदी को छोड़ना पड़ गया कांग्रेस का ‘हाथ’

कांग्रेस प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने कांग्रेस के प्रवक्ता सहित पार्टी के सभी पदों से इस्तीफ़ा दे दिया है.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 5:26 pm, Fri, 19 April 19

नई दिल्ली: लोकसभा चुनावों(Lok sab Election) के मौसम में कांग्रेस(Congress) पार्टी के लिए एक बुरी खबर आई है. दरअसल पार्टी की पूर्व प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी(Priyanka Chaturvedi) ने पार्टी की सदस्यता से इस्तीफा देते हुए शिवसेना(Shiv Sena) का हाथ थाम लिया है. प्रियंका चतुर्वेदी मथुरा(Mathura) में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के अमर्यादित व्यवहार से दुःखी थीं.

यह भी पढ़ें, प्रियंका चतुर्वेदी ने थामा शिवसेना का दामन, कहा- आत्मसम्मान के लिए ये जरूरी था

मथुरा सीट बनी वजह

ये तो हो गई परदे के पीछे की बात लेकिन असल मुद्दा कुछ और ही है. प्रियंका के इस्तीफे के पीछे असल वजह मानी जा रही है मथुरा(Mathura) लोकसभा सीट, प्रियंका इस सीट से चुनाव लड़ना चाहती थीं लेकिन पार्टी ने उनकी जगह महेश पाठक को प्रत्याशी बना दिया था.

प्रेस कॉन्फ्रेंस में हुई थी बदसलूकी

प्रियंका के इस्तीफे की एक और वजह मथुरा में हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान की गई बदसलूकी भी मानी जा रही है. प्रियंका ने राफेल डील को लेकर मथुरा में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी जहां कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उनके साथ अभद्र व अमर्यादित व्यवहार किया था. प्रियंका ने अपने ट्विटर अकाउंट पर पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा की गई बदसलूकी को लेकर निराशा भी जाहिर की थी.

घटना के बाद उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने आरोपी कार्यकर्ताओं के खिलफ तुरन्त कार्रवाई की थी लेकिन बाद में घटना पर खेद प्रकट करते हुए कार्रवाई को निरस्त भी कर दिया गया था. जिस पर प्रियंका चतुर्वेदी ने अफसोस प्रकट करते हुए दुख जाहिर किया था.

उत्तरी मुंबई सीट भी है एक वजह

प्रियंका के इस्तीफे की एक और वजह उत्तरी मुंबई की सीट भी मानी जा रही है. ऐसा माना जा रहा है कि प्रियंका उत्तरी मुंबई सीट से टिकट न मिलने की वजह से नाराज थीं. कांग्रेस ने इस सीट से बॉलीवुड स्टार उर्मिला मातोंडकर(Urmila Matondkar) को उम्मीदवार घोषित किया है. वहीं दूसरी तरफ संजय निरुपम(Sanjay Nirupam) और प्रिया दत्त(Priya Dutt) की दावेदारी के आगे प्रियंका कमजोर नजर आ रही थीं इस वजह से मुंबई में भी उनकी दाल नहीं गली जिसके बाद उन्होंने पार्टी छोड़ने का मन बना लिया और शिवसेना में शामिल हो गईं.

यह भी पढ़ें, ‘मैं आपका एहसान नहीं भूलूंगा’, मुलायम के कहते ही मिट गईं 24 साल की दूरियां