बिहार में राधामोहन, रघुवंश सहित 127 प्रत्याशियों की किस्मत ईवीएम में बंद, 60 प्रतिशत मतदान

छठे चरण में कुल 10 करोड़, 18 लाख मतदाताओं ने अपने मत का इस्तेमाल किया. इनमें 5 करोड़, 43 लाख पुरूष मतदाता हैं जबकि महिला मतदाताओं की संख्या 4 करोड़ 75 लाख हैं.

पटना: लोकसभा चुनाव के छठे चरण में बिहार की आठ सीटों वाल्मीकिनगर, पूर्वी चंपारण, पश्चिम चंपारण, शिवहर, वैशाली, सीवान, गोपालगंज और महाराजगंज में रविवार को मतदान शांतिपूर्ण संपन्न हो गया. इसके साथ ही 127 प्रत्याशियों की किस्मत ईवीएम में कैद हो गई. इनमें केंद्रीय मंत्री राधामोहन सिंह, राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह, राजद के पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन की पत्नी हिना शहाब, भाजपा नेता और बिहार के पूर्व मंत्री जनार्दन सिंह सिग्रीवाल जैसे दिग्गज शामिल हैं.

छठे चरण में करीब 60 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया. मतदान के दौरान कहीं से किसी बड़ी अप्रिय घटना की सूचना नहीं है. इन क्षेत्रों में 1.38 करोड़ से ज्यादा मतदाताओं के लिए 13,973 मतदान केंद्र बनाए गए थे.

बिहार राज्य निर्वाचन विभाग के मुख्य निर्वाचन अधिकारी एच. आर. श्रीनिवास ने बताया कि इन क्षेत्रों में 59.38 प्रतिशत मतदताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया. सबसे ज्यादा मतदान पश्चिम चंपारण और वाल्मीकिनगर में हुआ, जहां क्रमश: 63.90 और 63.80 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया, जबकि सबसे कम महाराजगंज लोकसभा क्षेत्र में 52.22 फीसदी मतदान हुआ.

सुबह सात बजे से ही मतदाता मतदान के लिए घरों से निकलने लगे. मतदान केंद्रों पर मतदाताओं की लंबी-लंबी कतारें लग गईं. कतारों में महिलाओं की संख्या काफी रही. निर्वाचन आयोग ने भी शांतिपूर्वक मतदान के लिए संतोष जताया है.

उन्होंने बताया कि मतदान के दौरान छिटपुट घटनाओं को छोड़ कर अबतक कहीं से किसी बड़ी अप्रिय घटना की सूचना नहीं है. इस दौरान 10 लोगों को हिरासत में लिया गया. उन्होंने कहा कि प्रारंभ में कुछ स्थानों पर ईवीएम खराब होने की सूचना मिली थी, जिसे बाद में दुरुस्त कर लिया गया.

सुरक्षा की दृष्टि से वाल्मीकिनगर लोकसभा क्षेत्र के वाल्मीकिनगर एवं रामनगर विधानसभा क्षेत्रों तथा वैशाली लोकसभा क्षेत्र के मीनापुर, पारू और साहेबगंज विधानसभा क्षेत्रों में चार बजे ही मतदान समाप्त हो गया था, जबकि अन्य सभी क्षेत्रों में मतदान का कार्य शाम छह बजे तक जारी रहा. इस चरण के मतदान को लेकर सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए गए थे. सभी मतदान केंद्रों पर अर्धसैनिक बलों और बिहार सैन्य बल की तैनाती की गई थी.

इस बीच, शिवहर लोकसभा क्षेत्र में एक मतदान केंद्र पर एक सुरक्षाकर्मी की राइफल से गोली चलने से एक मतदानकर्मी की मौत हो गई. शयामपुर भटहां थाना के प्रभारी सैफ अहमद खान ने बताया, “माधोपुर सुंदर स्थित मतदान केंद्र संख्या 275 पर एक होमगार्ड जवान सरयुग दास की राइफल से गलती से गोली चल गई, जो वहीं बैठे मतदानकर्मी शिवेंद्र किशोर को लग गई और वह गंभीर रूप से घायल हो गए.”

घायल मतदानकर्मी को आनन-फानन में शिवहर अस्पताल ले जाया गया, जहां प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें मुजफ्फरपुर रेफर कर दिया गया. खान ने बताया कि मुजफ्फरपुर में इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई.

इधर, पश्चिमी चंपारण लोकसभा क्षेत्र में नरकटियागंज के एक मतदान केंद्र पर पहुंचे भाजपा उम्मीदवार डॉ. संजय जायसवाल को कुछ लोगों ने लाठी-डंडे लेकर घेर लिया. हालांकि, वे उनपर हमला नहीं कर पाए और वह बाल-बाल बच गए. इस दौरान मतदान केंद्र पर मौजूद सिपाहियों और उनके निजी सुरक्षा गाडरें को काफी मशक्कत करनी पड़ी.

एक अधिकारी के मुताबिक, एक उत्तेजक भाषण की वजह से स्थिति बिगड़ गई थी. पुलिस के हस्तक्षेप के बाद अब स्थिति शांतिपूर्ण है. उल्लेखनीय है कि बिहार की 40 लोकसभा सीटों के लिए सभी सात चरणों में मतदान होना है. छठे चरण के बाद 32 सीटों पर मतदान हो चुका है. सातवें चरण के तहत 19 मई को आठ सीटों पर मतदान करवाए जाएंगे. 23 मई को मतगणना के बाद परिणाम घोषित होंगे. बिहार में इस चरण में महागठबंधन और राजग में सीधा मुकाबला माना जा रहा है.

ये भी पढ़ें, VIDEO: अलवर गैंगरेप पीड़ित दंपति ने मांगी सरकारी नौकरी, कहा- बलात्कारियों को फांसी दो