BJP नेताओं की दबंगई, किसी ने दरोगा को पीटा, तो कहीं कार्यकर्ताओं ने लड़की को छेड़ा

बीते दिन 3 अलग-अलग जगह से आने वाले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के राजनेताओं ने आचार संहिता का उल्लंघन तो किया ही, साथ ही लोगों के साथ मारपीट करने तक पर उतारू हो गए.

लखनऊ: देश की सत्रवीं लोकसभा के लिए आज पहले चरण के मतदान हो रहे हैं. सभी राजनीतिक दल सत्ता में आने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा रही हैं. अपनी चुनावी सभाओं में राजनीतिक दल अपने प्रतिद्वंद्वी की खूब आलोचना कर चुके हैं.

वहीं कुछ मामले ऐसे भी सामने आए हैं जहां पर चुनाव आयोग के निर्देशों के बावजूद राजनेताओं ने आचार संहिता का उल्लंघन किया. बीते दिन  3 अलग-अलग जगह से आने वाले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के राजनेताओं ने आचार संहिता का उल्लंघन तो किया ही, साथ ही लोगों के साथ मारपीट करने तक पर उतारू हो गए.

1. पहला मामला आगरा का है, जहां पर सांसद और इटावा से चुनाव लड़ रहे रामशंकर कठेरिया ने अपने कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर इटावा में आचार संहिता का पालन करा रहे दारोगा को पीट दिया. रामशंकर कठेरिया बिना अनुमति नुक्कड़ सभा करा रहे थे और इसी बीच जब वहां के दरोगा ने उनसे बिना अनुमति के सभा करने से इनकार किया तो सांसद कठेरिया और उनके कार्यकर्ताओं ने उनकी साथ मारपीट कर दी.

2. दूसरा मामला बस्ती का है. यहां से सांसद हरीश द्विवेदी के गुर्गों ने बस्ती शहर में युवक पर जानलेवा हमला किया. हरीश द्विवेदी के गुर्गों ने कुछ दिन पहले मंदिर के पुजारी की नाबालिग पुत्री को घर में घुसकर छेड़ा था. युवती के भाई ने जब इसका विरोध किया तो बुधवार को सांसद के गुर्गों ने पीड़िता के भाई को सरेआम पीट दिया. चश्मदीदों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि गुर्गे कह रहे थे कि सांसद हमारे हैं, पुलिस हमारी है, मुकदमा नहीं होगा. गौरतलब है कि पीड़िता की मां की तरफ से दी गयी तहरीर पर बुधवार शाम तक भी आरोपियों के खिलाफ मुकदमा नहीं दर्ज़ किया गया था.

3. तीसरा मामला सीतापुर जिले का है, जहां बिसवां से बीजेपी विधायक महेंद्र यादव ने पैमाइश कराने गए लेखपाल को भूमाफिया के साथ मिलकर लात घूसों से पीटा. इस मामले में बीजेपी विधायक समेत 4 लोगों पर मुकदमा दर्ज किया गया है.