मोदी जुमलों की सरकार, जनता को दिया धोखा, लोग सुसाइड नोट लिख मांग रहे हैं इच्छामृत्यु: राज बब्बर

इन चुनाव में समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने गठबंधन किया है, तो यह कयास लगाए जा रहे हैं कि राज बब्बर की जीत की राह इस बार थोड़ी मुश्किल हो सकती है, लेकिन कांग्रेस नेता को विश्वास है कि वे जीत दर्ज करेंगे

आगरा: लोकसभा चुनाव 2019 के लिए दूसरे चरण की वोटिंग आज जारी है. 12 राज्यों की कुल 95 सीटों पर आज मतदान हो रहे हैं. वहीं वेस्ट यूपी की चर्चित फेतहपुर सीकरी लोकसभा सीट पर कांग्रेस के राज बब्बर, बीजेपी के राज कुमार चहर और बीएसपी उम्मीदवार गुड्डु पंडित के बीच सीधा मुकाबला है.

हालांकि पिछले तीन लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के दिग्गज नेता राज बब्बर ही यहां से विजयी रहे हैं. इन चुनाव में समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने गठबंधन किया है, तो यह कयास लगाए जा रहे हैं कि राज बब्बर की जीत की राह इस बार थोड़ी मुश्किल हो सकती है, लेकिन कांग्रेस नेता को विश्वास है कि वे जीत दर्ज करेंगे

टीवी9 भारतवर्ष से बातचीत करते हुए राज बब्बर ने केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधा. राज बब्बर ने कहा, “हमें किसी भी झूठे, धोखे और किसी भी जुमले से टकराने की जरूरत नहीं पड़ती. मुझे उनसे टकराने की जरूरत नहीं है क्योंकि मैं यहां लड़ने नहीं आया हूं. टकराते वो हैं, जो लड़ते हैं. मैं अपने क्षेत्र में काम करने आया हूं और मेरे लोग मुझे प्यार करते हैं. उन्होंने मुझे कहा कि मैं अपने क्षेत्र में वापस आकर चुनाव लडूं.”

आगे मोदी सरकार को घेरते हुए अभिनेता से राजनेता बने राज बब्बर बोले, “यहां के लोग विकास, पानी की समस्या, आलू किसान अपनी-अपनी परेशानी से जूझ रहे हैं और प्रधानमंत्री-राष्ट्रपति को सुसाइड नोट लिख रहे हैं कि हमें स्वेच्छा से मृत्यु दान दिया जाए. उत्तर प्रदेश सरकार और दिल्ली की सरकार इन्हें केवल बहाने देती है. इनको जुमले कसती है और इन्हें धोखा देती है. यहां के हालात बहुत बुरे हैं.”

शहीदों को लेकर बात करते हुए उन्होंने कहा, “हमारा क्षेत्र शहीदों का क्षेत्र है. यहां कई जवान शहीद हुए, लेकिन उनके परिवारों के लिए कुछ नहीं किया गया, जिससे उन नौजवानों को प्रेरणा मिल सके, जो कि फौज में भर्ती होने का सपना देखते हैं.”

सपा-बसपा के कारण वोट ट्रांसफर को लेकर पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए राज बब्बर ने कहा, “इस शहर ने न मेरी जात देखी, न मेरी बिरादरी देखी. ये वो क्षेत्र है, जिसने मुझे चुनाव चिन्ह और सफेद बैनर पर वोट दिया और लाखों मतों से जिताया है. एक नहीं, दो नहीं बल्कि तीन बार. सपा-बसपा गठबंधन से वोट ट्रांसफर होते हैं या नहीं, इसे लेकर मैं कुछ नहीं सोचता, लेकिन मैं अपने लोगों के लिए यहां ट्रांसफर हो रहा हूं ताकि उनके लिए काम कर सकूं.”