रायगंज में वोटिंग के बीच हिंसा, बीजेपी-टीएमसी कार्यकर्ता आपस में भिड़े

यह झड़प उस समय शुरू हुई जब रायगंज में केवल महिलाओं के लिए बने एक पोलिंग बूथ पर तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने बीजेपी के पुरुष पोलिंग एजेंट को बैठे हुए देखा.
West bengal violence loksabha election, रायगंज में वोटिंग के बीच हिंसा, बीजेपी-टीएमसी कार्यकर्ता आपस में भिड़े

रायगंज: लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण के लिए आज पश्चिम बंगाल की तीन लोकसभा सीट दार्जिलिंग, जलपाईगुड़ी और रायगंज के लिए मतदान हो रहे हैं. वहीं इस बीच राज्य की अलग-अलग जगहों से हिंसा की खबरें सामने आईं. रायगंज में वोटिंग के दौरान भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हो गई थी.

इस हिंसा के बाद चुनाव आयोग ने संबंधित निर्वाचन अधिकारी से रिपोर्ट तलब की है. इसके साथ ही चुनाव आयोग ने निर्वाचन अधिकारी से हिंसा की फुटेज भी मांगी है.

वहीं इस मामले को लेकर बीजेपी का प्रतिनिधिमंडल चुनाव आयोग से इसकी शिकायत करेगा. जानकारी के मुताबिक बीजेपी का प्रतिनिधिमंडल दोपहर 3 बजे चुनाव आयोग से शिकायत करने के लिए पहुंचेगा.

बता दें कि रायगंज हिंसा उस समय हुई यहां केवल महिलाओं के लिए बने एक पोलिंग बूथ पर तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने बीजेपी के पुरुष पोलिंग एजेंट को बैठे हुए देखा.

इस बात को लेकर टीएमसी और बीजेपी कार्यकर्ताओं को लेकर बहसबाजी हो गई और थोड़ी ही देर में यह बहसबाजी मारपीट में बदल गई. इस हिंसा के बाद दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं को तित्तर-बितर करने के लिए सुरक्षाबलों को हवाई फायरिंग करनी पड़ी और आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े.

वहीं एक अन्य घटना में रायगंज के इसलामपुर में सीपीआई (एम) के उम्मीदवार मोहम्मद सलीम पर हमले की खबर भी सामने आई है. सलीम पटगारा के इस्लामपुर के मतदान केंद्र पर गए थे कि तभी उनकी कार पर फायरिंग कर हमला किया गया.

West bengal violence loksabha election, रायगंज में वोटिंग के बीच हिंसा, बीजेपी-टीएमसी कार्यकर्ता आपस में भिड़े

इस हमले में सलीम घायल हो गए, जिन्हें उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है. इस हमले के पीछे कथित तौर पर तृणमूल कांग्रेस का हाथ बताया जा रहा है. हालांकि, जिले के जमीनी नेताओं ने इस आरोप को पूरी तरह से गलत ठहराया है. यह ज्ञात हो कि सलीम को गंभीर चोट नहीं आई है.

Related Posts