MP Loksabha Result 2019: प्रज्ञा ने दिग्विजय को हराया, 17 साल बाद सिंधिया को भी मिली शिकस्त

नतीजों पर शिवराज सिंह ने कहा, 'नायडू इस कहावत को पूरी तरह चरितार्थ करते है कि-'चौबेजी छब्बेजी बनने निकले थे, लेकिन दुबेजी' बनकर लौटे."
loksabha election 2019, MP Loksabha Result 2019: प्रज्ञा ने दिग्विजय को हराया, 17 साल बाद सिंधिया को भी मिली शिकस्त

भोपाल: लोकसभा चुनाव में सबसे चौंकाने वाले नतीजे मध्य प्रदेश से आए. यहां कांग्रेस पार्टी के दो बड़े नेताओं को हार का सामना करना पड़ा है. इन चुनावों की सबसे रोचक सीट रही भोपाल की. जिसपर साध्वी प्रज्ञा ने पूर्व मुख्यमंत्री और दिग्गज कांग्रेसी नेता दिग्विजय सिंह को भारी मतों से पछाड़ दिया है. वहीं गुना संसदीय क्षेत्र से पिछले 17 वर्षों से सांसद रहे ज्योतिरादित्य सिंधिया भी बीजेपी के केपी यादव से काफी पीछे चल रहे हैं.

भाजपा ने राज्य की 29 में से 28 सीटों पर जीत दर्ज की है. कांग्रेस के खाते में केवल 1 सीट ही आई है. मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भाजपा को देश में मिले भारी बहुमत को लेकर आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा, ‘नायडू इस कहावत को पूरी तरह चरितार्थ करते है कि-‘चौबेजी छब्बेजी बनने निकले थे, लेकिन दुबेजी’ बनकर लौटे.

चौहान ने चंद्रबाबू नायडू पर तंज कसते हुए ट्वीट किया, “चौबेजी छब्बेजी बनने निकले थे, लेकिन दुबेजी बनकर लौटे.’ आपने (नायडू) मोदीजी को हटाने के लिए दिन-रात उठापटक की लेकिन देश की जनता के दिलों में मोदीजी बसते हैं और वहां से उन्हें कोई नहीं हटा सकता.”

चौहान ने एक ट्वीट में सलाह देते हुए लिखा, “कांग्रेस के बुद्धिजीवी नेता वंशवाद की राजनीति से बाहर निकलें वर्ना इतना बड़ा इतिहास रखने वाली पार्टी का अस्तित्व ही समाप्त हो जाएगा. कांग्रेस वंशवाद की राजनीति के कारण अब लगातार दूसरी बार नेता प्रतिपक्ष बनाने की हैसियत में नहीं है.”

मध्य प्रदेश में लोकसभा की कुल 29 सीटें हैं, जिसमें से 2014 में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को 27 सीटों पर जीत मिली थी. मध्य प्रदेश में बीजेपी और कांग्रेस के बीच सीधी लड़ाई है. कांग्रेस मात्र दो सीटों पर चुनाव जीत पाई थी. कांग्रेस की ओर से कमलनाथ छिंदवाड़ा और ज्योतिरादित्य सिंधिया गुना सीट से चुनाव जीते थे.

PartyLeadingWon
BJP028
INC01
Others00
SeatPartyCandidateResult
बालाघाट बीजेपी
कांग्रेस
ढाल सिंह बिसेन
मधु भगत
ढाल सिंह बिसेन जीते
बैतूलबीजेपी
कांग्रेस
दुर्गादास उइके
रामू टेकाम
दुर्गादास उइके जीते
भिंडबीजेपी
कांग्रेस
संध्या राय
देवाशीष जारड़िया
संध्या राय जीतीं
भोपालबीजेपी
कांग्रेस
प्रज्ञा ठाकुर
दिग्विजय सिंह
प्रज्ञा ठाकुर जीतीं
छिंदवाड़ाबीजेपी
कांग्रेस
नतन शाह
नकुल नाथ
नकुल नाथ जीते
दमोहबीजेपी
कांग्रेस
प्रहलाद पटेल
प्रताप सिंह लोधी
प्रहलाद पटेल जीते
देवास बीजेपी
कांग्रेस
महेंद्र सोलंकी
प्रह्लाद टिपनिया
महेंद्र सोलंकी जीते
सतनाबीजेपी
कांग्रेस
गणेश सिंह
राजा राम त्रिपाठी
गणेश सिंह जीते
रीवाबीजेपी
कांग्रेस
जनार्दन मिश्रा
सिद्धार्थ तिवारी
जनार्दन मिश्रा जीते
सीधीबीजेपी
कांग्रेस
रीति पाठक
अजय सिंह
रीति पाठक जीतीं
शहडोलबीजेपी
कांग्रेस
हिमाद्री सिंह
प्रमिला सिंह
हिमाद्री सिंह जीतीं
खजुराहो बीजेपी
कांग्रेस
बिष्णु दत्त शर्मा
कविता सिंह
बिष्णु दत्त शर्मा जीते
मुरैनाबीजेपी
कांग्रेस
नरेंद्र सिंह तोमर
राम निवास रावत
नरेंद्र सिंह तोमर जीते
ग्वालियरबीजेपी
कांग्रेस
विवेक सेजवालकर
अशोक सिंह
विवेक सेजवालकर जीते
गुनाबीजेपी
कांग्रेस
डॉ. केपी यादव
ज्योतिरादित्य सिंधिया
डॉ. केपी यादव जीते
सागरबीजेपी
कांग्रेस
राज बहादुर सिंह
प्रभांशु सिंह ठाकुर
राज बहादुर सिंह जीते
टीकमगढ़बीजेपी
कांग्रेस
वीरेंद्र कुमार खटिक
किरण अहिरवार
वीरेंद्र कुमार खटिक जीते
जबलपुरबीजेपी
कांग्रेस
राकेश सिंह
विवेक तन्खा
राकेश सिंह जीते
विदिशाबीजेपी
कांग्रेस
रमाकांत भार्गव
शैलेंद्र पटेल
रमाकांत भार्गव जीते
मंडलाबीजेपी
कांग्रेस
फग्गन सिंह कुलस्ते
कमल मारावी
फग्गन सिंह कुलस्ते जीते
राजगढ़बीजेपी
कांग्रेस
रोडमल नागर
मोना सुस्तानी
रोडमल नागर जीते
खंडवाबीजेपी
कांग्रेस
नंद सिंह चौहान
अरुण यादव
नंद सिंह चौहान जीते
इंदौरबीजेपी
कांग्रेस
शंकर लालवानी
पंकज सांघवी
शंकर लालवानी जीते
होशंगाबादबीजेपी
कांग्रेस
उदय प्रताप सिंह
शैलेंद्र दीवान
उदय प्रताप सिंह जीते
उज्जैनबीजेपी
कांग्रेस
अनिल फिरोजिया
बाबूलाल मालवीय
अनिल फिरोजिया जीते
मंदसौरबीजेपी
कांग्रेस
सुधीर गुप्ता
मीनाक्षी नटराजन
सुधीर गुप्ता जीते
रतलामबीजेपी
कांग्रेस
जीएस डामोर
कांति लाल भूरिया
जीएस डामोर जीते
धारबीजेपी
कांग्रेस
छतर सिंह दरबार
दिनेश ग्रेवाल
छतर सिंह दरबार जीते
खरगोनबीजेपी
कांग्रेस
गजेंद्र पटेल
डॉ. गोविंद मुजालदा
गजेंद्र पटेल जीते

Related Posts