ममता बनर्जी ने नहीं की PM मोदी से बात, PMO से दो बार गया फोन

पीएम स्टाफ की तरफ से बंगाल की मुख्यमंत्री को दो बार फोन लगाया गया, लेकिन दोनों ही बार ममता बनर्जी फोन पर नहीं आईं.

नई दिल्ली: बीते शनिवार को पीएम मोदी ने फोनी तूफान के सिलसिले में जानकारी जुटाने के लिए बात करने की कोशिश की थी, मगर उनकी बात नहीं हो पाई. प्रधानमंत्री ने दो बार बंगाल की सीएम ममता बनर्जी से बात करनी चाही, लेकिन दोनों ही बार उन्होंने बात नहीं की.

पीएमओ के सूत्रों ने बताया कि स्टाफ से जब पहली बार ममता बनर्जी को फोन लगाया गया तो वो दौरे पर होने की वजह से बात नहीं कर पाईं. इसके बाद स्टाफ के दूसरी बार फोन करने पर भी मुख्यमंत्री ने बात नहीं की और कहा गया कि वो खुद पीएम से बात करेंगी. लेकिन इसके बाद ममता बनर्जी ने फोनी के मुद्दे पर पीएम मोदी से बात नहीं की.

कोई जवाब न मिलने पर प्रधानमंत्री मोदी ने बंगाल के राज्यपाल केसरी नाथ त्रिपाठी से बातचीत की. उनके ऐसा करने पर तृणमूल कांग्रेस ने नाराजगी भी जताई. तृणमूल के मुताबिक प्रधानमंत्री ने फोनी के बारे में केवल ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक से ही बात की है. उन्होंने बंगाल की मुख्यमंत्री को कोई फोन नहीं किया.

हालांकि ममता बनर्जी की पार्टी के इन दावों को पीएमओ ने खारिज किया है.

तृणमूल महासचिव पार्थ चटर्जी के मुताबिक, ”नरेंद्र मोदी ने संघीय नियमों का उल्लंघन करते हुए जानकारी के लिए मुख्यमंत्री की बजाय सीधे राज्यपाल से बात की. पीएम ने राज्यपाल को एक भाजपा नेता होने के नाते फोन किया है. मोदी ने जनता के आदेश देश को नकारा है, क्योंकि ममता बनर्जी जनता की चुनी हुई मुख्यमंत्री हैं. नरेंद्र मोदी का ये करना गलत है.”