अब मेनका गांधी ने मायावती पर लगाया टिकट बेचने का आरोप

‘सबलोग जानते हैं कि मायावती टिकट बेचती हैं. ये तो उनके पार्टी के लोग गर्व से बोलते हैं, उनके 77 घर हैं, उनके यहां रहने वाले भी गर्व से बोलते हैं हमारी मायावती जी या तो हीरों में लेती है या तो पैसों में लेती हैं लेकिन लेती हैं 15 करोड़ रुपये.’

नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने बुधवार को उत्तरप्रदेश के सुल्तानपुर में एक जनसभा के दौरान बसपा (बहुजन समाज पार्टी) प्रमुख मायावती पर टिकट के बदले नोट लेने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा, ‘सबलोग जानते हैं कि मायावती टिकट बेचती हैं. ये तो उनके पार्टी के लोग गर्व से बोलते हैं, उनके 77 घर हैं, उनके यहां रहने वाले भी गर्व से बोलते हैं हमारी मायावती जी या तो हीरों में लेती है या तो पैसों में लेती हैं लेकिन लेती हैं 15 करोड़ रुपये.’

उन्होंने आगे कहा, ‘कोई टिकट मुफ़्त में नहीं दिया जाता. उन्होंने टिकट इस तरह बचें हैं, 15 करोड़ में. अब मैं पूछती हूं बंदूकधारी लोगों से, आपके पास 15 करोड़ देने के लिए कहां से आये? अब इन्होंने दिया है और ये कहां से बनाएंगे 15-20 करोड़. आपके जेबों से.’

बता दें कि बुधवार को ही ‘ऑपरेशन भारतवर्ष’ में समाजवादी पार्टी के पूर्व सांसद मिथिलेश कुमार ने बसपा सुप्रीमो मायावती के बारे में हैरान करने वाले खुलासे किए. अंडरकवर रिपोर्टर्स से बातचीत में मिथिलेश कुमार ने माना कि वह 15 करोड़ रुपए फूंककर सांसद बने थे.

खुफिया कैमरा के सामने सपा के पूर्व सांसद मिथिलेश कुमार ने खुद कहा कि वह 6 करोड़ रुपए में मायावती की पार्टी से टिकट हासिल करने वाले हैं. स्टिंग ऑपरेशन के दौरान
मिथिलेश कुमार ने ये भी बता दिया कि उनका 6 करोड़ में BSP से टिकट का सौदा हुआ है, उसके लिए 2 करोड़ रुपए एडवांस मांगे गए हैं. मिथिलेश कुमार यह भी दावा कर रहे हैं कि मायावती घर पर ही रुपए लेती हैं. कालाधान तहखानों में ही रखा जाता है और 2,000 के नोट ही मांगे जाते हैं.’

TV9 भारतवर्ष के अंडरकवर रिपोर्टर्स ने दिल्ली के एक होटल में मिथिलेश कुमार से मिलने पहुंचे.

और पढ़ें- Video: ‘घर पर ही रुपए लेती हैं मायावती, तहखाने में रखा जाता है कालाधन’

हमारे अंडरकवर रिपोर्टर्स ने समाजवादी पार्टी के पूर्व सांसद से कहा कि वो जान-पहचान की कुछ कंपनियों से उन्हें चुनाव के लिए करोड़ों रुपए दिला सकते हैं, लेकिन शर्त ये है कि अगर वो सांसद का चुनाव जीत गए, तो उन्हें हमारी कंपनियों को फायदा पहुंचाने के लिए वो सबकुछ करना होगा, जो हम कहेंगे.