नेहरू की जगह जिन्ना PM बनते तो नहीं होता देश का बंटवारा: BJP उम्मीदवार

भाजपा उम्मीदवार ने आजादी के आंदोलन का जिक्र करते हुए कहा कि साल 1942 में भारत छोड़ो आंदोलन हुआ था, उसके बाद हमारे देश में प्रधानमंत्री बनने की होड़ मच गई थी.

झाबुआ: मध्य प्रदेश में लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण के मतदान से पहले पाकिस्तान के नेता मोहम्मद अली जिन्ना की एंट्री हो गई है. झाबुआ-रतलाम संसदीय क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के उम्मीदवार जी.एस.डामोर ने जिन्ना को विद्वान व्यक्ति बताते हुए कहा कि अगर जिन्ना को प्रधानमंत्री बना दिया जाता तो देश के टुकड़े नहीं होते.

जी.एस. डामोर हैं BJP उम्मीदवार
राज्य में तीसरे चरण का चुनाव प्रचार थम चुका है, रविवार को आठ संसदीय क्षेत्रों में मतदान होने वाला है. वहीं राज्य के चौथे चरण में आठ सीटों पर मतदान 19 मई को होना है, इनमें एक सीट झाबुआ-रतलाम भी है. यहां से भाजपा ने जी.एस. डामोर को उम्मीदवार बनाया है.

‘विभाजन के लिए कांग्रेस जिम्मेदार’
झाबुआ के राणापुर में शनिवार को एक जनसभा में डामोर ने कहा, “मोहम्मद अली जिन्ना एडवोकेट और एक विद्वान व्यक्ति थे. अगर उस समय निर्णय लिया होता कि हमारा प्रधानमंत्री मोहम्मद जिन्ना बनेगा, तो इस देश के टुकड़े नहीं होते. अगर इस देश के टुकड़े के लिए कोई जिम्मेदार है तो कांग्रेस पार्टी जिम्मेदार है.”

‘नेहरू जिद नहीं करते तो…’
डामोर ने आजादी के आंदोलन का जिक्र करते हुए कहा, “वर्ष 1942 में भारत छोड़ो आंदोलन हुआ था, उसके बाद हमारे देश में प्रधानमंत्री बनने की होड़ मच गई थी. कांग्रेस के कुछ लोग चाहते थे हम बनें. अगर आजादी के समय पं. जवाहरलाल नेहरू जिद नहीं करते तो देश के दो टुकड़े नहीं होते.”

भाजपा उम्मीदवार के बयान का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. झाबुआ-रतलाम संसदीय क्षेत्र में डामोर का मुकाबला कांग्रेस के उम्मीदवार पूर्व केंद्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया से है.

Read Also: शबाना आजमी ने कहा- ‘मोदी अगर प्रधानमंत्री बन गए तो देश छोड़ दूंगी’ FACT CHECK

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *