‘अगर असली सरदार हो तो छोड़ दो पॉलिटिक्स’ सिद्धू को क्‍यों दी जा रही है ये चुनौती

सिद्धू को ट्रोल करने वालों में आम लोग तो हैं ही, साथ ही कई जानेमाने चेहरे भी शामिल हैं.

नई दिल्ली. उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के बुरे प्रदर्शन के बाद पार्टी की राज्य इकाई के अध्यक्ष राज बब्बर द्वारा पार्टी आलाकमान को इस्तीफा भेजे जाने के बाद ट्विटर पर कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू को उनके राजनीति छोड़ने के वादे की याद दिलाई जा रही है. अप्रैल में सिद्धू ने राहुल गांधी की अमेठी से जीत का पूरा भरोसा जताते हुए कहा था कि अगर राहुल यहां से चुनाव हार गए तो वह राजनीति छोड़ देंगे.

जैसे ही साफ हो गया कि स्मृति ईरानी के हाथों राहुल गांधी की अमेठी में हार हो गई है, ट्विटर पर यूजर सिद्धू को उनके वादे की याद दिलाने लगे और उनसे राजनीति छोड़ने के लिए कहने लगे.  शुक्रवार को भी ट्विटर पर हैशटैग सिद्धू क्विट पॉलिटिक्स ट्रेंड होता रहा.

सिद्धू को उनका वादा याद दिलाते हुए एक ट्विटर यूजर ने लिखा कि “सिद्धू अगर असली सरदार हो तो क्विट करो.” इसके साथ ही ट्विटर यूजर्स ने खबर का स्क्रीन शॉट डाला है, जिसमे उन्होंने कहा था कि अमेठी से राहुल गांधी की हारने पर वह पॉलिटिक्स छोड़ देंगे.

एक अन्य यूजर ने लिखा, “शेरी, आप एक सरदार हैं. सरदार अपनी बात के लिए जाने जाते हैं. अपने पब्लिसिटी स्टैंड पर अब स्टैंड लीजिए. वैसे भी, आपके पास मुंबई में तो पार्ट टाइम जॉब है ही. ओ..चक दे फट्टे नाप दे किल्ली, सुबह जालंधर शाम नू दिल्ली, ठोको ताली.” अमेठी से स्मृति ईरानी के राहुल को हराने के बाद बीजेपी नेता बाबुल सुप्रियो ने ट्वीट किया, “क्या आप अब भी अपनी बात पर रहेंगे, जब अब अमेठी ने सीधे तौर पर स्मृति ईरानी और बीजेपी को अपना समर्थन दे दिया है?”

एक अन्य ने लिखा, “सिद्धू के राजनीति छोड़ने का वक्त आ गया. अगर आप अपनी बात की अहमियत मानते हैं और सरदार हैं तो आप तुरंत इस्तीफा दीजिए. राहुल गांधी की शानदार हार के बाद सभी स्तब्ध हैं, भाजपा भी. बहरहाल, सिद्धू क्विट पॉलिटिक्स.”

एक अन्य यूजर ने एक न्यूज रिपोर्ट पोस्ट की जिसमें सिद्धू के प्रण की तस्वीर थी और लिखा, “प्रिय शेरी, अपनी बात का लिहाज रखें, कृपया इस्तीफा दें. हम सब बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं.”