मेरी पत्नी झूठ नहीं बोलती, कांग्रेस के टिकट न देने वाले नवजोत कौर के दावे पर बोले सिद्धू

नवजोत कौर ने 14 मई को मुख्यमंत्री पर उन्हें चंडीगढ़ या अमृतसर से लोकसभा टिकट नहीं देने का आरोप लगाया था.

चंंडीगढ़: पंजाब के कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने गुरुवार को अपनी पत्नी के अमृतसर से टिकट नहीं दिए जाने वाले बयान का बचाव किया. सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर सिद्धू ने आरोप लगाया था कि मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और पंजाब मामलों की प्रभारी आशा कुमारी के इशारे पर उन्हें अमृतसर लोकसभा सीट से टिकट नहीं दिया गया.

इस मामले पर जब सिद्धू से बात की गई तो उन्होंने कहा, “मेरी पत्नी के पास इतनी शक्ति और नैतिक अधिकार है कि वह कभी झूठ नहीं बोलेंगी.”

नवजोत कौर ने 14 मई को मुख्यमंत्री पर उन्हें चंडीगढ़ या अमृतसर से लोकसभा टिकट नहीं देने का आरोप लगाया था. उन्होंने कहा था कि सिद्धू अपने गृहप्रदेश में प्रचार नहीं करेंगे क्योंकि मुख्यमंत्री ने उन्हें ऐसा करने से मना किया है.

पत्नी के बयान के कुछ घंटों बाद, सिद्धू ने बठिंडा में एक चुनावी सभा में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी और मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की मौजूदगी में कहा था कि वह बादलों को एक ‘नॉकआउट पंच’ देने के लिए 17 मई को पंजाब लौटेंगे.

वहीं नवजोत कौर के दावों को खारिज करते हुए कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि सिद्धू की पत्नी को चुनाव लड़ने के लिए टिकट ऑफर की गई थी, लेकिन उन्होंने खुद ही मना कर दिया.

एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार, कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा, “टिकट बंटवारे का फैसला दिल्ली में बैठे कांग्रेस के आलाकमान करते हैं. आलाकमान ने ही नवजौत कौर की चंडीगढ़ से चुनाव लड़ने के आवेदन को ठुकराया था. चंडीगढ़ सीट पंजाब के अंतर्गत नहीं आती है और वहां से उम्मीदवार का चयन करने में मेरी कोई भूमिका नहीं.”

इसके बाद मुख्यमंत्री ने कहा, “मुझसे जब पूछा गया, तो मैंने खुलकर आलाकमान से कहा कि पार्टी के लिए पवन बंसल सही उम्मीदवार हैं. नवजोत कौर को अमृतसर और बठिंडा से टिकट ऑफर की गई थी, लेकिन उन्होंने इसके लिए मना कर दिया.”

 

ये भी पढ़ें-     “बापू का हत्यारा देशभक्त? हे राम!” प्रियंका गांधी ने प्रज्ञा ठाकुर के बयान पर बीजेपी को घेरा

पॉलिटिक्स में अभी बच्चा हूं मैं, CM योगी से है काफी कुछ सीखना, खास बातचीत में बोले रवि किशन