पीएम मोदी को लेकर नहीं बदला देश का मूड, नए सर्वे में खुलासा

आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा, असम, कर्नाटक, गुजरात और तमिलनाडु जैसे बड़े राज्यों में सभी लोकसभा सीटों पर मतदान संपन्न हो चुके हैं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मतदाताओं की अपेक्षाओं पर खरा उतरने का सिलसिला जारी है क्योंकि पिछले एक महीने में मोदी के प्रदर्शन के संबंध में उच्च संतुष्टि के स्तर में कोई बदलाव देखने को नहीं मिला है. सीवोटर-आईएएनएस ट्रैकर में इसका खुलासा हुआ है. एक अप्रैल और एक मई के बीच, प्रतिदिन औसतन 50 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि वे प्रधानमंत्री से बहुत संतुष्ट हैं, जिन्हें लेकर पूरे महीने मतदाताओं का रुख समान रहा और इस दौरान 543 लोकसभा सीटों में से 374 उम्मीदवारों के किस्मत का फैसला करने के लिए चार चरणों का मतदान हुआ.

आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा, असम, कर्नाटक, गुजरात और तमिलनाडु जैसे बड़े राज्यों में सभी लोकसभा सीटों पर मतदान संपन्न हो चुके हैं. एक अप्रैल को, 12,001 लोगों में 51.36 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि वे विशुद्ध संतुष्टि सूचकांक 49.62 प्रतिशत अंकों के साथ प्रधानमंत्री से बहुत संतुष्ट थे.

इन राज्‍यों के लोग पीएम मोदी से खुश

एक महीने बाद एक मई को 10,868 लोगों में से 51.93 फीसदी लोगों ने कहा कि वे प्रधानमंत्री से बहुत संतुष्ट हैं. उनकी विशुद्ध संतुष्टि रेटिंग 47.89 रही. जो लोग उनसे नाखुश हैं, महीनेभर इनका प्रतिशत 25 प्रतिशत के करीब रहा. एक अप्रैल को 12,001 लोगों में से 24.59 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि वे प्रधानमंत्री से संतुष्ट नहीं हैं. एक मई को, 25.66 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि वे प्रधानमंत्री से संतुष्ट नहीं हैं.

राज्यों में, मतदाता हरियाणा में (393 लोगों में से 72.40 प्रतिशत), बिहार (499 में से 69.03), हिमाचल प्रदेश (589 में से 68.89) और गुजरात (410 में से 65.25) में प्रधानमंत्री से सबसे अधिक संतुष्ट रहे. जिन राज्यों में मतदाता बहुत कम संतुष्ट थे उनमें केरल (549 में से 10.09 प्रतिशत), आंध्र प्रदेश (427 में से 16.17 प्रतिशत) और पंजाब (460 में से 15.50 प्रतिशत) शामिल हैं.

ये भी पढ़ें

कुंभ की भगदड़ और नेहरू: मोदी ने जो कहा 1954 में जो हुआ, उसकी पूरी सच्चाई

मोदी पहले ऐसे पीएम नहीं, राजीव गांधी को भी कहा गया था ‘चोर’