Video:मंच से PM मोदी ने क्यों किया ‘पागल कुत्ता’, ‘नाली का कीड़ा’, ‘गंगू तेली’ जैसी गालियों का जिक्र?

पीएम मोदी ने कहा मैं कांग्रेस और उसके साथियों को मनमानी नहीं करने देता हूं इसलिए ये लोग बार-बार प्रेम का नकाब पहनकर मुझे गालियां देते रहते हैं.

नई दिल्ली: बुधवार को हरियाणा के कुरुक्षेत्र में रैली के दौरान PM मोदी ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि कांग्रेस में मुझे गाली देने की होड़ लगी है, अभी तक कांग्रेस गाली के तौर पर उनपर प्रेम बरसा रही है. मोदी ने इस दौरान बताया कि कांग्रेसी किन अपशब्दों का इस्तेमाल उनके लिए करते हैं.

मोदी ने कहा कि, “कांग्रेस के एक नेता ने मुझे गंदी नाली का कीड़ा कहा, तो दूसरा मुझे गंगू तेली कहने आ गया, इनके एक नेता ने मुझे पागल कुत्ता कहा, तो दूसरे नेता ने भस्मासुर की उपाधि दे दी, इनके एक और मंत्री ने मुझे वायरस कहा तो दूसरे ने दाऊद इब्राहिम का दर्जा दे दिया.”

पीएम मोदी ने इसका कारण भी बताया. उन्होंने कहा कि, मैं कांग्रेस और उसके साथियों को मनमानी नहीं करने देता हूं, उनके भ्रष्टाचार को रोकता हूं, उनके वंशवाद की बात करता हूं, इसलिए ये लोग बार-बार प्रेम का नकाब पहनकर मुझे गालियां देते रहते हैं.

पीएम मोदी यहीं नहीं रुके, उन्होंने कहा कि, “इनके बड़े-बड़े नेताओं ने मुझे ‘मानसिक तौर पर बीमार’ बताया, ‘नीच किस्म का आदमी’ कहा, यहां तक कि ये भी पूछा गया कि मेरे पिता कौन थे ये नहीं मालूम, मेरे दादा कौन थे, ये नहीं मालूम. प्रधानमंत्री ने यहां लोगों से अपील करते हुए कहा कि ये गालियों वाली वीडियो को आप लोगों को फैलाइए, ताकि देश को कांग्रेस की सच्चाई पता लग सके.”

इसके अलावा पीएम मोदी ने कहा कि, इनके एक नेता ने मुझे हिटलर, तो दूसरे ने मुझे बदतमीज नालायक बेटा कहा. इतना ही नहीं, मुझे रैबीज बीमारी से पीड़ित बंदर, चूहा और लहू पुरुष बोला गया. कांग्रेस वालों ने मुझे रावण, सांप, बिच्छू, गंदा आदमी, जहर बोने वाला तक बोला.

पीएम मोदी ने इसका जवाब देते हुए कहा कि, इनकी गालियों की परवाह न करते हुए मैं पूरी शक्ति से देश की सेवा कर रहा हूं। हरियाणा भी बीते पांच वर्षों में बड़े परिवर्तन का गवाह रहा है.पानीपत से ही बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का अभियान मैंने शुरु किया था। हरियाणा ने इन 5 वर्षों में बेटियों का बहुत ध्यान रखा है.

यह भी पढ़ें, राजीव गांधी पर पीएम मोदी की टिप्पणी से आहत आदमी ने चुनाव आयोग को खून से लिखी चिट्ठी