इंटरनेट, ई-मेल और डिजिटल कैमरा, भारत में कब आई ये सुविधाएं?

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि उन्होंने 1987-88 में डिजिटल कैमरा और ई-मेल का इस्तेमाल किया था. जानिए भारत में कब आया इंटरनेट, ई-मेल और डिजिटल कैमरा.

पीएम मोदी ने एक चैनल को इंटरव्यू दिया. उस इंटरव्यू की क्लिप्स शेयर होती जा रही हैं. पहले दिन बादलों से रडार को चकमा देने की वजह से सोशल मीडिया यूजर्स ने मजे लिए. दूसरे दिन पीएम की कविता और हैंडराइटिंग पर उंगली उठी. तीसरे दिन तीसरी क्लिप शेयर हो रही है जिसमें पीएम मोदी बता रहे हैं कि 1987-88 में उनके पास डिजिटल कैमरा था. उन्होंने गुजरात में आडवाणी की फोटो खींची थी. ईमेल करके अगले दिन वो फोटो दिल्ली में कलर प्रिंट हुई थी.

ये हिस्सा वायरल होते ही सवाल उठने लगे. लोग पूछने लगे कि 1988 में कैमरा कहां था? ईमेल कहां था? उन सब सवालों का जवाब यहां है.

भारत में ईमेल कब आया उससे बड़ा सवाल है दुनिया में कब आया? अमेरिका के कैंब्रिज में रेमंड सैमुअल टॉमलिंसन नाम के वैज्ञानिक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसेज में इंस्टैंट मैसेजिंग पर कई साल से काम कर रहे थे. इनको कामयाबी 1971 में मिली. अपने ऑफिस के दो कंप्यूटर्स के बीच संदेश भेजा. ये कंप्यूटर्स अर्पानेट से जुड़े थे. तब इंटरनेट नहीं होता था, ये अर्पानेट ही इंटरनेट का पूर्वज था. ये पहला ईमेल था.

पीएम मोदी ने डिजिटल कैमरे से खींची गई फोटो ईमेल से भेजने की बात कही. यानी ये अलग से एक फाइल थी जिसे अटैच करके भेजना होता है. ये सिर्फ शब्द संदेश नहीं बल्कि पूरा अलग फॉर्मैट होता है. ईमेल में तस्वीर अटैच करके पहली बार 1992 में भेजी गई. नेथेनियल बोरेंसटीन ने अपने साथी नेड फ्रीड के साथ मिलकर इस तकनीक पर काम किया था.

अब कैमरे की बात. ऑफिशियली पब्लिक के लिए पहला डिजिटल कैमरा 1990 में उपलब्ध हुआ. स्विटजरलैंड की डायकैम नाम की कंपनी ने इसे बनाया था और लॉजिटेक फोटोमैन इसका नाम था.

अब बेसिक जरूरत पर आते हैं जो है इंटरनेट. इसके बिना ईमेल नहीं जा सकता. ऊपर बताया गया है कि जब पहला ईमेल भेजा गया तो इंटरनेट नहीं था. अर्पानेट था. 1973 से इंटरनेट की नींव तो पड़ गई लेकिन इसका सही से इस्तेमाल 1980 में शुरू हुआ. वो भी यूरोप और ऑस्ट्रेलिया में. भारत में 15 अगस्त 1995 को विदेश संचार निगम लिमिटेड ने इंटरनेट शुरू किया.

यानी भारत में पहली बार इंटरनेट 1995 में, ईमेल के जरिए पहली तस्वीर 1992 में और दुनिया का पहला डिजिटल कैमरा 1990 में आए.

ये भी पढ़ें:

बादलों में छिप गईं पीएम मोदी के इंटरव्यू की दो बड़ी गलतियां

‘जुमला ही फेंकता रहा 5 साल की सरकार में’, रडार वाले बयान पर पीएम मोदी की फजीहत

(Visited 2,911 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *