बीजेपी से खफा अभिनंदन इस सीट से लड़ने जा रहे हैं चुनाव

राजधानी लखनऊ से लड़ने जा रहे इस प्रत्याशी ने सुनाई ऐसी कहानी आप भी पढ़िए.

नई दिल्ली: पीएम मोदी के हमशक्ल अभिनंदन पाठक ने यूपी की राजधानी लखनऊ से लोकसभा चुनाव लड़ने का फैसला किया है. अभिनंदन पाठक ने निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में नामांकन पत्र भर दिया है.

2014 में मोदी के लिए मांगे थे वोट
पीएम मोदी के हमशक्ल अभिनंदन पाठक ने 2014 लोकसभा चुनाव में पीएम मोदी के लिए वोट मांगे थे और चुनाव में प्रचार प्रसार भी किया था. भाजपा से नाराजगी के बाद अभिनंदन कांग्रेस में शामिल हो गए थे. अभिनंदन की कांग्रेस ज्वाइनिंग बड़े ही भव्य तरीके से की गई थी. राहुल गांधी ने खुद अभिनंदन को कांग्रेस की सदस्यता दिलाई थी.

पीएम मोदी के खिलाफ लड़ने की बात कही
नामांकन भरने के बाद अभिनंदन पाठक ने वाराणसी से पीएम मोदी के खिलाफ भी चुनाव लड़ने की बात कही. इससे पहले पाठक 5 राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के लिए प्रचार किया था. इस बार कांग्रेस से लोकसभा टिकट नहीं मिलने से अभिनंदन पार्टी से खफा हो गए और अब लखनऊ से निर्दलीय चुनाव लड़ने जा रहे हैं.

नामांकन के बाद पीएम मोदी पर निशाना
शुक्रवार को निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर नामांकन करने पहुंचे अभिनंदन ने कहा, ‘लोकसभा चुनाव में लखनऊ सीट से लड़ने जा रहा हूं. मैं जुमले वाला नहीं हूं, मैं झूठ बोलने वाला नहीं हूं और ना ही मैं राफेल वाला हूं. मेरा काम सच बोलना और सेवा करना होगा.’

ये भी पढ़ें- ‘आप लोग इस देश को चैन से नहीं रहने देंगे’, SC ने अयोध्या मामले में लगाई ये फटकार

बीजेपी ने मेरा यूज किया- अभिनंदन
सहारनपुर निवासी अभिनंदन पाठक का आरोप है कि एक समय चुनाव प्रचारों में बीजेपी ने उनका खूब उपयोग किया. 2015 के दिल्ली विधानसभा चुनाव और 2017 के यूपी विधानसभा चुनाव में पीएम मोदी की रैलियों में वह आकर्षण का केंद्र बने रहते थे.

चुनाव लड़ चुके हैं अभिनंदन
अभिनंदन 1999 में एक बार लोकसभा का चुनाव लड़ चुके हैं. इसके अलावा 2012 में एक बार विधानसभा चुनाव भी लड़ चुके हैं. पाठक ने कहा, ‘लोगों ने अच्छे दिन के लिए मोदी सरकार को चुना था. मगर साल दर साल स्थितियां बदतर होती चली गईं. यही वजह है कि अब लोगों का विश्वास मोदी सरकार से उठ गया है. लोग इतने परेशान हैं कि कई बार मुझे अपशब्द कहते हैं और पीटते हैं.’