सपा-कांग्रेस मिलकर बहनजी का फायदा उठा रहे हैं- प्रतापगढ़ में बोले PM मोदी

पीएम मोदी ने प्रतापगढ़ की रैली में एक शेर भी पढ़ा- न मैं गिरा और न मेरी उम्मीदों के मीनार गिरे, पर कुछ लोग मुझे गिराने में कई बार गिरे.

लखनऊ. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने अमेठी और रायबरेली से जुड़े प्रतापगढ़ लोकसभा क्षेत्र में चुनावी जनसभा में कहा कि, कांग्रेस और समाजवादी पार्टी मिलकर बहनजी (मायावती) का फायदा उठा रहे हैं. पीएम मोदी ने प्रतापगढ़, सुल्तानपुर, अमेठी संसदीय क्षेत्र के एनडीए प्रत्याशियों के लिए शहर के राजकीय इंटर कालेज के मैदान में जनसभा को संबोधित किया.

पीएम मोदी के भाषण की बड़ी बातें

  • जो पार्टी पहले चरण के मतदान से पहले खुद को प्रधानमंत्री पद की दावेदार बता रही थी, वो अब ये मानने लगी है कि हम तो यूपी में सिर्फ वोट काटने के लिए चुनाव लड़ रहे हैं. कांग्रेस का कितना पतन हो गया है, ये इसका सबूत है.
  • बची कांग्रेस, तो उसके नेता खुशी-खुशी समाजवादी पार्टी की रैलियों में मंच साझा कर रहे हैं. बहन जी को ऐसा धोखा इन लोगों ने दिया है कि उन्हें भी समझ नहीं आ रहा.
  • उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ में बोले पीएम, ‘मायावती खुलेआम कांग्रेस की आलोचना करती हैं, कांग्रेस को कोसती हैं. सपा, कांग्रेस पर नर्मी दिखाती है.
  • अब ये साफ हो चुका है कि समाजवादी पार्टी ने गठबंधन के बहाने बहन मायावती की पीठ में छुरा भोंका है. पिछले दरवाजे से समाजवादी पार्टी और कांग्रेस एक हो गए हैं.
  • चार चरणों के मतदान के बाद, उत्तर प्रदेश के लोगों ने तय कर दिया है कि नतीजे किस तरफ जा रहे हैं. अब पांचवे चरण से पहले ये महामिलावटी लोग, अगर आपका ये उत्साह देख लेंगे, तो चुनाव का मैदान ही छोड़ने की सोचने लगेंगे.
  • प्रतापगढ़ में बोले प्रधानमंत्री पीएम,’वोट काटना, समाज तोड़ना, देश बांटना, कैबिनेट का अध्यादेश फाड़ना, यही कांग्रेस की पहचान बन गया है. न मैं गिरा और न मेरी उम्मीदों के मीनार गिरे, पर कुछ लोग मुझे गिराने में कई बार गिरे.
  • कल तक कांग्रेस के नामदार कहते थे कि वो मोदी के प्रभाव से डरते हैं. अब वो कहने लगे हैं कि मोदी से तब तक नहीं जीत सकते, जब तक मोदी की मेहनत और मोदी की देशभक्ति पर दाग न लग जाए.
  • उत्तर प्रदेश के लोगों को मजबूत भारत के लिए, मजबूत सरकार के अपने संकल्प पर अडिग रहना है. मजबूर और अवसरवाद की इस महामिलावट का पंजा बहुत खतरनाक है.
  • महामिलावट के इस पंजे के 5 भयानक खतरे हैं- पहला खतरा- भ्रष्टाचार, दूसरा खतरा – अस्थिरता, तीसरा खतरा – जातिवाद, चौथा खतरा – वंशवाद और पांचवा खतरा- कुशासन.