फेसबुक पर राजनीतिक प्रचार में खर्च की जानकारी उड़ा देगा होश, ये पार्टी सबसे आगे

बीजू जनता दल (बीजद) ने विज्ञापनों पर 8.56 लाख रुपये, तेलुगु देशम पार्टी (तेदेपा) ने 1.58 लाख रुपये और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने इस अवधि के दौरान 58,355 रुपये ख़र्च किए.

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव 2019 के लिए राजनीतिक दलों द्वारा सोशल मीडिया वेबसाइट पर विज्ञापन के लिए 10 करोड़ रुपये से ज्यादा ख़र्च किए गए है. एक रिपोर्ट के अनुसार, सिर्फ फरवरी-मार्च 2019 के दौरान सोशल मीडिया वेबसाइट फेसबुक पर राजनीतिक दलों द्वारा विज्ञापनों पर 10 करोड़ रुपये से ज्यादा ख़र्च हुए.

‘फेसबुक एंड लाइब्रेरी’ रिपोर्ट के अनुसार, इस साल फरवरी से 30 मार्च के बीच 51,810 राजनीतिक विज्ञापनों पर 10.32 करोड़ रुपये से ज्यादा ख़र्च किए गए, जिसमें बीजेपी और उसके समर्थक विज्ञापनों पर बड़ा हिस्सा ख़र्च कर रहे हैं.

इस मामले पर फेसबुक का कहना है कि विज्ञापन राजनीति और राष्ट्रीय महत्व के मुद्दों से संबंधित थे.

सत्तारूढ़ बीजेपी और उसके समर्थकों का ‘भारत के मन की बात’ पेज के साथ विज्ञापनों के बड़े हिस्से पर कब्जा है.

बीजेपी ने करीब 1,100 विज्ञापन दिए और उन पर 36.2 लाख रुपये ख़र्च किए हैं जबकि अन्य पेजों जैसे ‘माय फर्स्ट वोट फॉर मोदी’ और ‘नेशन विद नमो’ ने भी विज्ञापनों पर भारी पैसा ख़र्च किया.

वहीं, कांग्रेस के फेसबुक पर 410 विज्ञापन थे और उसने इस अवधि के दौरान इन पर 5.91 लाख रुपये ख़र्च किए.

बीजू जनता दल (बीजद) ने विज्ञापनों पर 8.56 लाख रुपये, तेलुगु देशम पार्टी (तेदेपा) ने 1.58 लाख रुपये और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने इस अवधि के दौरान 58,355 रुपये ख़र्च किए.

पिछले कुछ महीनों में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म जैसे फेसबुक, टि्वटर और गूगल ने राजनीतिक विज्ञापनों में अधिक पारदर्शिता बरतने का वादा किया था और तब से उन्होंने कई कदमों की घोषणा की.

भारत में फेसबुक के 20 करोड़ यूजर्स हैं.

इससे पहले ‘भारतीय पारदर्शिता रिपोर्ट’ के अनुसार, लोकप्रिय सर्च इंजन गूगल में विज्ञापनों पर ख़र्च करने के मामले में बीजेपी ने सभी राजनीतिक दलों को पीछे छोड़ दिया है वहीं विज्ञापनों पर ख़र्च करने के मामले में कांग्रेस छठे नंबर पर है.

रिपोर्ट के मुताबिक, राजनीतिक दलों और उनसे संबंद्ध घटकों ने फरवरी 2019 तक विज्ञापनों पर 3.76 करोड़ रुपए ख़र्च किए हैं.

बीजेपी विज्ञापनों पर 1.21 करोड़ रुपए ख़र्च करने के साथ ही इस सूची में शीर्ष पर है, जो गूगल पर कुल विज्ञापन ख़र्चों का लगभग 32 प्रतिशत है.

प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस इस सूची में छठे नंबर पर है, जिसने विज्ञापनों पर 54,100 रुपए ख़र्च किए हैं.