EVM मसले पर पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी भी हुए चिंतित, कहा- EC पर है सुरक्षा की जिम्मेदारी

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का यह बयान ऐसे समय आया है जब तमाम विपक्षी दल लगातार ईवीएम पर सवाल खड़े कर रहे हैं.

नई दिल्ली: पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने ईवीएम विवाद पर चिंता जाहिर की है. उन्होंने कहा है कि मैं मतदाताओं के फैसले के साथ कथित छेड़छाड़ की खबरों को लेकर चिंतित हूं. संस्थागत विश्वसनीयता सुनिश्चित करने का दायित्व चुनाव आयोग पर है, उसे सभी अटकलों पर विराम लगाना चाहिए.

प्रणब मुखर्जी ने इसे लेकर ट्विटर पर एक बयान जारी किया है. उन्होंने लिखा, “लोकतंत्र में लोगों के निर्णय पर किसी तरह का संकट नहीं आना चाहिए. लोगों का फैसला हमेशा किसी भी तरह के संशय से हटकर सर्वोच्च रहना चाहिए.”

‘ईवीएम की करें सुरक्षा’
पूर्व राष्ट्रपति ने चुनाव आयोग को नसीहत देते हुए कहा है कि आप ईवीएम की सुरक्षा करें. उन्होंने कहा कि जनमत सबसे पवित्र है. लोकतंत्र में अफवाह की जगह नहीं रहनी चाहिए. आयोग को इन अफवाहों का अंत करना चाहिए.

प्रणब मुखर्जी का यह बयान ऐसे समय आया है जब तमाम विपक्षी दल लगातार ईवीएम पर सवाल खड़े कर रहे हैं. विपक्षी नेता चुनाव आयोग से ईवीएम की सुरक्षा बढ़ाने की मांग कर रहे हैं. माना जा रहा है कि प्रणब के इस बयान से विपक्ष के आरोपों को समर्थन मिला है.

प्रणब ने पहले की थी तारीफ 
पूर्व राष्ट्रपति ने इससे पहले सोमवार को चुनाव आयोग की सराहना की थी. उन्होंने कहा था कि 2019 का लोकसभा चुनाव शानदार तरीके से संपन्न कराया गया. उन्होंने कहा कि पहले चुनाव आयुक्त सुकुमार सेन के समय से लेकर मौजूदा चुनाव आयुक्तों तक संस्थान ने बहुत अच्छे से काम किया है.

ये भी पढ़ें-

BJP ने कांग्रेस के 10 विधायकों को दिया पैसे और पद का लालच: कमलनाथ का आरोप

EVM, VVPAT के मसले पर विपक्षी दलों की प्रेस कॉन्फ्रेंस, कहा- मोदी है तो रिजल्ट लूट भी मुमकिन

EVM पर सवाल उठाने वालों की बात पर इसलिए नहीं करता कोई विश्वास!