पीएम मोदी ने की चौकीदारों से चर्चा, विपक्ष और पाकिस्तान पर जमकर बरसे

पीएम मोदी ने कहा, 'चौकीदार न कोई व्यवस्था है, न कोई यूनिफॉर्म की पहचान है. न कोई चौखट में बंधा है. चौकीदार एक स्प्रिट है, एक भावना है.'

नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशभर से आए चौकीदारों को संबोधित किया. बीजेपी के मुताबिक देशभर में करीब 500 से ज्यादा जगहों के लोगों से भी वह इस दौरान तकनीक के माध्यम से सीधे जुड़े.

इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जब साल 2014 में वह सत्ता में आए थे तो उन्होंने देश की जनता से वादा किया था कि वह एक चौकीदार के रूप में अपना दायित्व निभाएंगे और जनता के पैसों पर किसी का पंजा नहीं पड़ने देंगे. पीएम मोदी ने कहा, ‘चौकीदार न कोई व्यवस्था है, न कोई यूनिफॉर्म की पहचान है. न कोई चौखट में बंधा है. चौकीदार एक स्प्रिट है, एक भावना है.’

विपक्षी दलों में प्रधानमंत्री पद का कोई एक उम्मीदवार न होने को लेकर भी पीएम मोदी ने उनपर निशाना साधा. उन्होंने कहा, ‘आपने इस देश में बहुत सारे प्रधानमंत्री देखें हैं या उनके विषय में सुना है। 2014 में भी कईं लोग उस कतार में थे। आज लाइन थोड़ी लंबी हो गयी है.’

पाकिस्तान पर भी बरसे पीएम मोदी

पाकिस्तान पर हमला बोलते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पाकिस्तान को लगता होगा कि मोदी चुनाव में व्यस्त होगा तो शायद कुछ करेगा नहीं. मेरे लिए चुनाव प्रियोरिटी नहीं देश प्रियोरिटी है. इसी के साथ प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत के पास समृद्ध राष्ट्र बनने के लिए सब कुछ है, इसलिए हमारा सपना होना चाहिए कि अब हमें पिछड़ा बनकर नहीं रहना.

साथ ही उन्होंने कहा, ‘मैंने देश में एक माहौल बनाया है और आगे भी बनाना है कि हमे दुनिया की बराबरी करनी है. हमने बहुत सारा समय भारत पाकिस्तान करने में ही गुजार दिया. अरे वो अपनी मौत मरेगा उसे छोड़ दो, हमे आगे बढ़ना है बस इसी पर हमारा ध्यान रहना चाहिए.’

मिशन शक्ति भारत की सुरक्षा के लिए, किसी पर हमले के लिए नहीं

अपने संबोधन में प्रधानमंत्री मोदी ने हाल ही में हुए मिशन शक्ति परीक्षण की भी बात कही. उन्होंने कहा, ‘मिशन शक्ति’ के द्वारा हमारे देश के वैज्ञानिकों ने वो शक्ति हासिल की है। जो हमसे पहले दुनिया के केवल 3 देशों के पास थी.’ पीएम मोदी ने आगे कहा, ‘क्या हिंदुस्तान को इस बात के लिए इंतजार करना चाहिए था. जबकि हमारे वैज्ञानिकों के पास इसे प्राप्त करने की क्षमता है तो किसी को हिम्मत करके इसपर निर्णय करना ही था.’

उन्होने विपक्षी नेताओं पर तंज कसते हुए कहा कि हमारे एक बुद्धिमान नेता कहते हैं कि इसे सीक्रेट रखना चाहिए था. जब अमेरिका, चीन और रूस ने डंके कि चोट पर किया तो हम गुपचुप क्यों करें. पीएम मोदी ने कहा, ‘हमने ये किसी दुश्मन देश के लिए नहीं बल्कि अपनी सुरक्षा के लिए बनाया है और हम आगे भी करेंगे. इसीलिए ये शक्ति मिशन भारत के लिए एक बहुत महत्वपूर्ण घटना है.’