मैं कभी भगवान से कुछ नहीं मांगता, इस धरती से मेरा विशेष नाता- केदारनाथ से बोले पीएम मोदी

आज केदारनाथ से बद्रीनाथ जाएंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी.

देहरादून. लोकसभा चुनाव के लिए लगातार चुनावी सभाओं के बाद जब चुनाव प्रचार थमा तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी केदारनाथ में बाबा भोलेनाथ के दर्शन के लिए पहुंचे. वह केदारनाथ और बद्रीनाथ के दर्शन के लिए दो दिवसीय दौरे पर गए हैं. वह रविवार को केदारनाथ में पूजा अर्चना के बाद बद्रीनाथ मंदिर जाएंगे.  रविवार को केदारनाथ में पूजा-अर्चना करने के बाद पीएम मोदी ने मीडिया कर्मियों से बात करते हुए कहा कि, वह भगवान से कभी कुछ नहीं मांगते.

शनिवार को प्रधानमंत्री केदारनाथ मंदिर में दर्शन करने पहुंचे, जिसके बाद वहां उन्होंने गुफा में ध्यान लगाया. प्रधानमंत्री आज बद्रीनाथ जाएंगे.

क्या बोले प्रधानमंत्री मोदी

सबसे पहले तो मैं इलेक्शन कमीशन का आभार मानता हूं. ये मेरा सौभाग्य है कि अध्यात्मिक चेतना की भूमि पर कई वर्षों से मुझे जाने का मौका मिलता रहा है. इन दिनों केदारनाथ बार-बार आने का मौका मिलता रहा. केदारनाथ में जब आपदा आई, उस समय में यहां पहुंचा था. दिल में एक कसक थी मुझे यहां कुछ करना चाहिए. गुजरात में रहते हुए अपनी तरफ से कुछ प्रयास करता रहता था. लेकिन प्रधानमंत्री बना, सौभाग्य से उत्तराखंड में भी सरकार बनी.

आपने देखा होगा कि यहां महीने से ज्यादा काम का मौका नहीं मिल पाता है, क्योंकि बर्फ रहती है. 50-52 फीट तक बर्फ रहती है, माइनस 20-25 तक तापमान चला जाता है और जब काम पीक पर होता है तब करीब 800-1000 लोग काम करते हैं. हमने इसका एक मास्टर प्लान बनाया है. उसके आधार पर केदारनाथ के विकास का काम चल रहा है. एक तो मेरे मन में रहता है कि समय मिले तो काम का रिव्यू करूं और दूसरा इस धरती से मेरा विशेष नाता भी रहा है. आने का मन कर जाता है, कल से मैं यहां हूं, दो दिन यहां एक गुफा में रहने चला गया था, एकांत अवसर लम्बे समय के बाद मिला और साथ ही 24 घंटे बाबा के दर्शन भी मिलते रहे. छोटी से खिड़की से बाबा के दर्शन करता रहता हूं.

यहां का जो मेरा डेवलपमेंट का मिशन है, उसमे प्रकृति, पर्यावरण और पर्यटन. उसको हर प्रकार से संवारा जाए. लेकिन यहां कि जो आस्था और श्रद्धा है उसको हम और अधिक संभालने के लिए क्या कर सकते हैं. हम कोई अध्यात्मिक चेतना में इजाफा तो नहीं कर सकते हैं. लेकिन उसमे कठिनाइयां और रूकावटे डालने से तो अपने आप को बचा सकते हैं. मेरी कोशिश है कि इस दिशा में कोई प्रयास करूं. अच्छी टीम मिली है मुझे, डेडिकेटेड टीम काम कर रही है. मैं वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए यहां पर हो रहे काम की मोनिटरिंग करता रहता हूं.

पीएम ने कहा कि कपाट खुलने से पहले सैकड़ों लोगों को काम करना पड़ता है, आम लोगों की सुविधा का ध्यान रखना पड़ता है. जहां तक भगवान के चरणों में आता हूं, मैं कभी मांगता नहीं. मैं कुछ नहीं मांगता और मांगने की प्रवति पर मैं विश्वास भी नहीं करता.

ये भी पढ़ें: वोट परसेंटेज गिरने पर नीतीश कुमार ने दिया ये बड़ा बयान

ये भी पढ़ें: चंद्रबाबू नायडू पिटे हुए मोहरे हैं, BJP यूपी में 74 प्लस सीटें लाएगी- मतदान के बाद बोले CM योगी

केदारनाथ में प्रधानमंत्री की पूजा-अर्चना 

आज सुबह प्रधानमंत्री मोदी मंदिर परिसर में पहुंचे. वह पहले तो गुफा से करीब सवा किलोमीटर पैदल चलकर आए, फिर वो जीप में बैठकर मंदिर पहुंचे. उनके लिए वहां पर तैयारियां की गई थीं, एसपीजी ने सुरक्षा घेरा बिलकुल कड़ा किया हुआ था. सीढ़ियों पर रेड कारपेट बिछाया गया था. उन्ही से उतरकर पीएम मोदी केदारनाथ मंदिर परिसर पहुंचे. प्रधानमंत्री ने केदारनाथ मंदिर में पूजा-अर्चना की. आज वह बद्रीनाथ जाएंगे.

गुफा में पीएम मोदी.

गुफा में पीएम मोदी 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुफा के लिए डेढ़ किलोमीटर की दूरी तय की और मीडिया के अनुरोध पर कैमरों को शुरुआती विजुअल्स बनाने की अनुमति दी. पीएम शनिवार शाम से रविवार के सुबह तक गुफा में रहे. गुफा के आसपास के क्षेत्र में किसी भी मीडिया या अन्य लोगों को जाने अनुमति नहीं दी जाएगी.

यह गुफा मंदिर परिसर से करीब डेढ़ किलोमीटर की दूरी पर है. जो कि 12,250 फीट ऊंचाई पर स्थित है. केदारनाथ मंदिर के कपाट 9 मई को तीर्थयात्रियों के लिए खोले गए थे. 18 मई की सुबह उत्‍तराखंड के केदारनाथ धाम परिसर में हैलीकॉप्टर से उतरने के बाद मोदी सीधे मंदिर गए, जहां उन्होंने भगवान शिव की विशेष पूजा की. इस दौरान अन्य श्रद्धालुओं को मंदिर में प्रवेश की अनुमति नहीं थी. मंदिर श्रद्धलुओं के लिए प्रतिदिन तड़के चार बजे खुल जाता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *