शेखर तिवारी मर्डर केस में आया सस्पेंस, घर में पांच लैंडलाइन फोन

शुक्रवार को रोहित की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ था कि रोहित की मौत दम घुटने से हुई थी. जिसके बाद मामले की जांच क्राइम ब्रांच को सौंपी गई है.

नई दिल्ली: शेखर तिवारी मर्डर केस में एक नया मोड़ आ गया है, सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक शेखर तिवारी के घर पांच लैंड लाइन फोन हैं. जिसमें से तीन एमटीएनएल (MTNL) के और दो एयरटेल (Airtel) के. एयरटेल फोन पर इंटरनेट चलता है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक शेखर का खाना पूरी तरह पचा नहीं था. घर के लोग ज्यादातर बातें लैंड लाइन फोन से ही करते थे. डिफेंस कॉलोनी का मोबाईल नेटवर्क बहुत खराब रहता था और उसी इलाके में शेखर तिवारी का घर है.

इस मामले में क्राइम ब्रांच की दो टीमें अलग-अलग राय रख रही है. एक टीम की तफ्तीश इशारा करती है रोहित शेखर तिवारी का मर्डर हुआ है और इस कांड में उनकी पत्नी का हाथ है. जबकि दूसरी टीम पत्नी को शक के दायरे से बाहर रख रही है. रोहित शेखर के घर में सीन भी री-क्रिएट किए गए हैं.

इससे पहले रोहित शेखर तिवारी (Rohit Shekhar Tiwari) की मौत के मामले में क्राइम ब्रांच ने आज रोहित शेखर की मां उज्ज्वला, पत्नी अपूर्वा और घर के नौकरों से पूछताछ की. क्राइम ब्रांच की टीम ने परिवार के सदस्यों से लगभग 7 घंटे तक पूछताछ की. पूछताछ में रोहित की मां उज्ज्वला तिवारी (Ujjwala Tiwari) ने खुलासा किया कि रोहित ने प्रेम विवाह किया था लेकिन शादी के पहले दिन से बेटे और बहू में तनाव था.

शुक्रवार को रोहित की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ था कि रोहित की मौत दम घुटने से हुई थी. जिसके बाद मामले की जांच क्राइम ब्रांच को सौंपी गई है. दिल्‍ली पुलिस ने इस मामले में आईपीसी की धारा 302 के तहत अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्‍या का केस दर्ज किया है.

पति-पत्नी के बीच था मनमुटाव
रोहित की मां उज्जवला के मुताबिक, रोहित का शादी के अगले दिन से पत्नी अपूर्वा से झगड़ा शुरू हो गया था. मां ने बताया कि दोनों अलग-अलग सोते थे. उज्जवला यह कहना चाहतीं थीं कि अपूर्वा ने ही उनके बेटे रोहित की हत्या की है. वहीं रोहित की पत्नी अपूर्वा को शक था कि रोहित का किसी महिला से अफेयर था. वह महिला रोहित के किसी चचेरे भाई की पत्नी है और रोहित के परिवार में उस महिला का आना-जाना था. इसी बात को लेकर अपूर्वा और रोहित में अक्सर झगड़ा होता था.

संपत्ति भी विवाद की एक जड़ थी
क्राइम ब्रांच ने बताया कि रोहित और उनके भाई सिद्धार्थ के बीच संपत्ति विवाद की भी जांच की जा रही है. परिवार के पास उत्तराखंड और दिल्ली में करोड़ों रुपए की संपत्ति है. पुलिस सिद्धार्थ सहित घर से जुड़े 10 लोगों से पुलिस पूछताछ कर चुकी है. नारायण दत्त तिवारी लंबे समय तक रोहित को अपना बेटा मानने से इनकार करते रहे थे. 2014 में तिवारी ने अदालत के आदेश के बाद रोहित को अपना बेटा स्वीकार कर लिया था. एनडी तिवारी का 93 वर्ष की आयु में 18 अक्टूबर 2018 को निधन हो गया था. रोहित जनवरी 2017 में बीजेपी में शामिल हुए थे और एक साल पहले ही उन्होंने अपूर्वा शुक्ला से शादी की थी.

Related Posts