साध्वी प्रज्ञा का खुलासा- ‘मुझे इतनी यातनाएं दी गईं जिससे मुझे कैंसर हो गया’

तकरीबन दो साल पहले साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर का कैंसर का ऑपरेशन किया गया था. इस ऑपरेशन को पूरी तरह से गुप्त रखा गया था. ऑपरेशन लोहिया संस्थान में ऑपरेशन हुआ था.

भोपाल: बीजेपी के गढ़ कहे जाने वाले भोपाल संसदीय सीट से भाजपा ने साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को उम्मीदवार बनाया है. कांग्रेस ने भोपाल सीट से मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को उम्मीदवार बनाया है. गुरुवार शाम साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर बीजेपी कार्यकर्ताओं से बातचीत करते हुए भावुक हो गईं. इस दौरान साध्वी ने कई सनसनीखेज खुलासे भी किए.

साध्वी प्रज्ञा सिंह ने जैसे ही आपबीती सुनानी शुरू की वैसे ही उनकी आंखें छलक पड़ीं. साथ ही उन्होंने बताया कि उनको कैंसर क्यों हुआ. मालेगांव ब्लास्ट की आरोपी बनाए जाने के बाद उनको हिरासत में लिया गया और फिर उनको जेल भेज दिया गया था. उन्होंने बताया कि इस दौरान उनसे पूछताछ की जाती थी. पूछताछ में उनके साथ बुरा बर्ताव किया जाता था.

साध्वी प्रज्ञा ने किया खुलासा
साध्वी प्रज्ञा ने बताया कि उनका कई-कई बार नार्को टेस्ट कराया गया. इस दौरान उनके शरीर में कई तरह की दवाइयां दी जाती थी. इसी वजह से उनको कैंसर बीमारी हो गई थी. इतना ही नहीं साध्वी प्रज्ञा ने कई और सनसनीखेज खुलासे किए हैं. उन्होंने कहा कि उनको पीटने वाले बदल जाते थे लेकिन पिटने वाली मैं अकेली थी. वहां उनको भद्दी-भद्दी गालियां दी जाती थी. साथ ही उनको निर्वस्त्र करने की धमकी भी जाती थी. साध्वी ने दिग्विजय सिंह पर भी निशाना साधा है. साध्वी ने कहा कि किसी की पत्नी को अपनी पत्नी बना लिया क्योंकि उनको प्यार हो गया था.

बेहद सीक्रेट था उनका ऑपरेशन
तकरीबन दो साल पहले साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर का कैंसर का ऑपरेशन किया गया था. इस ऑपरेशन को पूरी तरह से गुप्त रखा गया था. ऑपरेशन लोहिया संस्थान में ऑपरेशन हुआ था. इस दौरान उनके साथ बड़ी बहन, छोटी बहन-उनके पति, विश्व हिंदू परिषद और आरएसएस के कुछ नेता मौजूद थे. साध्वी प्रज्ञा के परिवार, विश्व हिंदू परिषद और आरएसएस के कुछ नेताओं के अलावा इस बात की जानकरी किसी के पास नहीं थी. साध्वी प्रज्ञा की यह सर्जरी लगभग चार घंटे तक चली. लोहिया संस्थान के फेमस प्लास्टिक सर्जन डॉ. दारा सिंह राजपूत ने साध्वी प्रज्ञा की सर्जरी की. फिलहाल उन्हें आईसीयू में शिफ्ट कर दिया गया है.

कौन है साध्वी प्रज्ञा सिंह
साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर की पहचान हिंदुत्व के एक फायरब्रांड चेहरे के रूप में थी. वह गांव-गांव जाकर हिंदुत्व का प्रचार करती थी. उनको देखने और भाषणों को सुनने के लिए लोगों की भीड़ लग जाती थी. अपने इसी छवि और जोशीले भाषणों की वजह से वह बीजेपी नेताओं को प्रभावित करने लगी थी और राजनीति में उनका वर्चस्व बढ़ता गया. प्रज्ञा ठाकुर को 23 अक्टूबर 2008 को मालेगांव ब्लास्ट मामले में गिरफ्तार कर लिया गया था. वह इस मामले में आरोपी रही हैं और नौ साल तक जेल में भी रही हैं. हालांकि इस समय वो जमानत पर हैं.