‘जो हुआ वो हुआ’ पर कांग्रेस ने किया किनारा, सैम पित्रोदा ने मांगी माफी

1984 सिख दंगों पर दिए गए सैम पित्रोदा के 'जो हुआ वो हुआ' बयान के बाद कांग्रेस पार्टी ने खुद को बयान से अलग कर लिया था.

नई दिल्ली: सिख दंगों पर दिए गए बयान को लेकर सैम पित्रोदा ने सफाई दी है. शुक्रवार को मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि ‘मेरे बयान को तोड़-मरोड़कर पेश किया गया, मेरी हिंदी खराब है इसलिए इसे गलत समझ लिया गया. मेरा मतलब था कि ‘जो हुआ वो बुरा हुआ’. मैं बुरा को ट्रांसलेट नहीं कर पाया.’

मेरा मतलब था कि भाजपा सरकार ने क्या किया इस पर चर्चा करने के लिए हमारे पास और भी मुद्दें हैं. मुझे खेद है कि मेरी बात को गलत तरीके से पेश किया गया, मैं माफी मांगता हूं.

कांग्रेस पार्टी ने बयान से किया था किनारा-

कांग्रेस पार्टी ने अपने सलाहकार सैम पित्रोदा के 1984 में हुए सिख दंगों को लेकर दिए गए बयान पर सफाई दी है. पार्टी ने कहा, ‘‘हम मानते हैं कि 1984 के दंगा पीड़ितों को न्याय मिलना चाहिए. साथ ही 2002 के गुजरात दंगों के पीड़ितों को भी न्याय मिलना चाहिए.

पित्रोदा का बयान कांग्रेस पार्टी का बयान नहीं है. हम किसी भी व्यक्ति या समूह के खिलाफ उनकी जाति, रंग, धर्म या क्षेत्र के आधार पर हुई हिंसा की निंदा करते हैं .’’
सैम पित्रोदा के बयान से खुद को अलग करते हुए कांग्रेस ने कहा कि हमने अपने नेताओं से संवेदनशील और संभलकर बयान देने की अपील की है.

सैम पित्रोदा के बयान से दूर रहे पंजाब के मुख्यमंत्री-

वहीं पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पित्रोदा के बयान पर कहा, मैं सैम पित्रोदा के बयान से बिल्कुल भी इत्तेफाक नहीं रखता हूं. मैं पहले भी कह चुका हूं कि मैं इसे स्वीकार नहीं करता. 1984 दंगा पीड़ितों को अब तक इंसाफ नहीं मिल सका है और अगर ये कहा जाए कि अब जो हुआ सो हुआ उसे भूल जाओ तो ये कहना उन दंगा पीड़ितों के जख्मों पर नमक छिड़कने जैसा होगा. कल को आप गोधरा पीड़ितों के लिए भी यही कहेंगे.

यह सरकार की जिम्मेदारी है कि पता लगाए कि आखिर यह हुआ कैसे? कौन लोग इसके जिम्मेदार थे? यह पता लगाया जाना चाहिए. इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि कितने साल बीत गए हैं.’’

दरअसल सैम पित्रोदा ने कहा था कि- ‘अब क्या है 84 का? आपने पांच साल में क्या किया उसकी बात करिए. 84 में जो हुआ वो हुआ, आपने क्या किया.’

पित्रोदा ने बाद में अपने बयान पर सफाई दी. पित्रोदा ने शुक्रवार को ट्वीट किया कि, ‘‘उस वक्त सिख भाइयों और बहनों को हुए दर्द को महसूस कर सकता हूं. भाजपा मेरे इंटरव्यू के तीन शब्दों को तोड़-मरोड़कर पेश कर रही है. वे हमें बांटना और अपनी नाकामियों को छिपाना चाहते हैं.’’

ये भी पढ़ें- ’84 में जो हुआ वो हुआ’ बयान के बाद सैम पित्रोदा ने ट्वीट की गोल्‍डन टेंपल की तस्‍वीर