अमेठी में स्मृति ईरानी का ‘राइट हैंड’, अब प्रियंका गांधी के पाले में

यहीं सोच कर हम दिल को तसल्ली दे रहे हैं, जो मेरा न हुआ वो तेरा क्या होगा... अमेठी से भाजपा उम्मीदवार स्मृति ईरानी आज मन ही मन बहुत दु:खी होंगी.

अमेठी: दुश्मनों की जफ़ा का ख़ौफ़ नहीं, दोस्तों की वफ़ा से डरते हैं… हफ़ीज़ बनारसी का ये शेर आज अमेठी से भाजपा उम्मीदवार स्मृति ईरानी को बहुत याद आ रहा होगा. ईरानी के बेहद खास और अज़ीज़ मित्र ने आज उनको दगा दे दिया और कांग्रेस का दामन थाम लिया है.

2019 लोकसभा चुनाव (loksabha Election) के पहले फेज के मतदान हो चुके हैं. दूसरे फेज का मतदान 18 अप्रैल को होने वाला है. इसके पहले नेताओं का पाला बदलने का क्रम जारी है. अमेठी से भाजपा उम्मीदवार और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को कांग्रेस ने बड़ा झटका दिया है.

अमेठी दौरे पर हैं प्रियंका गांधी
कांग्रेस की महासचिव और पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा इस वक्त अमेठी दौरे पर हैं. इस दौरान प्रियंका गांधी बीजेपी में सेंध लगाने में कामयाब हो गई. अमेठी में स्मृति ईरानी के सबसे करीबी रवि दत्त मिश्रा अब कांग्रेस के चहेते हो गए हैं. अपने अमेठी दौरे के दौरान प्रियंका गांधी केंद्रीय मंत्री के सहयोगी रवि दत्त मिश्रा को कांग्रेस के पाले में लाने में कामयाब हुई हैं.

कौन है रवि दत्त मिश्रा
बताया जाता है कि रवि दत्त मिश्रा ही वह आदमी है जिनके यहां केंद्रीय मंत्री अपने अमेठी दौरे पर जाने के दौरान अक्सर ठहरा करती थीं. रवि दत्त मिश्रा बृहस्पतिवार को कांग्रेस में शामिल हुए. कहा जाता है कि मिश्रा ही वह व्यक्ति थे जो भाजपा नेता स्मृति ईरानी को अमेठी लेकर आए थे. रवि दत्त मिश्रा इससे पहले समाजवादी पार्टी की यूपी में सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं.

प्रियंका गांधी मांग रही हैं राहुल के लिए वोट
प्रियंका गांधी अमेठी में अपने भाई राहुल गांधी के लिए वोट मांग रही है. अमेठी को कांग्रेस का गढ़ कहा जाता है लेकिन बीजेपी ने स्मृति ईरानी को यहां भेजकर उनके गढ़ पर सेंध लगाने की कोशिश की है. 2014 में भी ईरानी यहीं से चुनाव लड़ी थी और राहुल को कड़ी टक्कर दी थी. इस बार बीजेपी ने ईरानी को दोबारा अमेठी से उम्मीदवार बनाया है.

क्यों हुआ ऐसा
स्थानीय सूत्र बतातें हैं कि इस बार राहुल के लिए ये सीट खतरा बन सकती है. अमेठी में ईरानी का बढ़ता जनाधार कांग्रेस को कहीं से भी रास नहीं आया. अमेठी में ईरानी को जिसपर सबसे ज्यादा भरोसा था उसी ने अब उनका साथ छोड़ दिया है. कांग्रेस अध्यक्ष अमेठी के साथ ही केरल के वायनाड सीट से चुनाव लड़ रहे हैं. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी की सक्रियता को देखकर साफ लग रहा है कि वह यूपी में कांग्रेस की खोई जमीन को हासिल करने के लिए खासी मेहनत कर रही हैं. अमेठी में लोकसभा चुनाव के छठे चरण में 6 मई को वोट डाले जाएंगे.