फॉर्म में लिखने से क्या राहुल गांधी ब्रिटिश नागरिक हो गए? SC ने नागरिकता संबंधी याचिका खारिज की

हिन्दू महासभा ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर कहा कि राहुल गांधी के पास ब्रिटिश नागरिकता है इसलिए उनका नामांकन को रद्द किया जाए.

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की नागरिकता संबंधी एक याचिका को खारिज कर दिया. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई व न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता व संजीव खन्ना की पीठ ने याचिका को खारिज कर दिया.

चीफ जस्टिस गोगोई ने कहा, “किसी कंपनी ने किसी रूप में राहुल गांधी का ब्रिटिश नागरिक के रूप में उल्लेख किया है, तो क्या वह एक ब्रिटिश नागरिक हो गए? इसे खारिज किया जाता है.”

अदालत दो कार्यकर्ताओं की याचिका पर सुनवाई कर रही है, जिसमें गृह मंत्रालय को मामले पर निर्णय करने का निर्देश देने व राहुल गांधी को लोकसभा चुनाव लड़ने से अयोग्य करार देने की मांग की गई थी.

याचिका में मांग की गयी थी कि कोर्ट गृह मंत्रालय को निर्देश दे कि मंत्रालय राहुल की नागरिकता के बारे में मिली शिकायत पर जल्द फैसला करे. याचिका में राहुल गांधी को चुनाव लड़ने से अयोग्य करार दिए जाने की भी मांग की गई थी.

गृह मंत्रालय ने 29 अप्रैल को राहुल गांधी को नोटिस जारी कर एक पखवाड़े में अपनी राष्ट्रीयता पर स्पष्टीकरण देने को कहा गया था. ऐसा भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सांसद सुब्रमण्यम स्वामी द्वारा उन पर ब्रिटिश नागरिक होने के आरोप लगाए जाने के बाद किया गया.

स्वामी ने गृहमंत्रालय को दिए बयान में आरोप लगाया कि राहुल गांधी ब्रिटिश कंपनी बैकोप्स लिमिटेड में निदेशक व सचिव के रूप में काम किया. यह कंपनी ब्रिटेन में 2003 से पंजीकृत है. इसका पता 51 साउथगेट स्ट्रीट विनचेस्टर, हैंपशायर है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *