फिर मोदी सरकार बनाने वाले Exit Poll पर बोले वेंकैया नायडू- ये एग्जैक्ट नहीं

उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने कहा, "एग्जिट पोल्स का अर्थ सटीक नतीजे नहीं है. हमें इसे समझना चाहिए. 1999 से अधिकांश एग्जिट पोल गलत साबित हुए हैं."

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव 2019 के सातों चरणों का मतदान समाप्त हो चुका है. चुनाव आयोग नतीजे 23 मई को जारी करेगा. इससे पहले एग्जिट पोल के नतीजे आ चुके हैं. लगभग हर एग्जिट पोल में भारतीय जनता पार्टी की केंद्र में सरकार बनती दिख रही है. इस बीच पूर्व बीजेपी नेता और मौजूदा उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने एग्जिट पोल के बारे में कहा कि ये वास्तविक परिणाम नहीं हैं.

उपराष्ट्रपति ने कहा, “एग्जिट पोल्स का अर्थ सटीक नतीजे नहीं है. हमें इसे समझना चाहिए. 1999 से अधिकांश एग्जिट पोल गलत साबित हुए हैं.”

’23 तारीख तक करना होगा इंतजार’
नायडू ने रविवार को गुंटूर में एक अनौपचारिक मीटिंग के दौरान ये बात कही. उन्होंने कहा कि हर पार्टी का विश्वास कायम (जीत को लेकर) है. उन्होंने कहा, “23 तारीख (वोटों की गिनती) तक हर कोई अपना आत्मविश्वास दिखाएगा. इसका कोई आधार नहीं होगा. इसलिए हमें 23 तारीख तक इंतजार करना होगा.”

उपराष्ट्रपति नायडू ने कहा, “देश और राज्य को एक कुशल नेता और स्थिर सरकार की जरूरत होती है, चाहे जो हो. बस इतना ही. समाज में बदलाव राजनीतिक दलों में बदलाव के साथ होना चाहिए.”

‘एक्जिट पोल अंतिम निर्णय नहीं’
दूसरी तरफ, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने सोमवार को कहा कि एक्जिट पोल ‘अंतिम निर्णय’ नहीं हैं, लेकिन साथ ही उन्होंने संकेत दिया कि भाजपा एक फिर सत्ता में आएगी. गडकरी ने प्रधानमंत्री की बायोपिक ‘पीएम नरेंद्र मोदी’ के नए पोस्टर के लांच के अवसर पर संवाददाताओं से बातचीत में यह बात कही.

उन्होंने कहा, “एक्जिट पोल ‘अंतिम निर्णय’ नहीं हैं, बल्कि संकेत करते हैं. हालांकि एक्जिट पोल में जो भी होता है, कमोबेश रिजल्ट में आता है.”

बता दें कि 14 में 12 एक्जिट पोल ने राजग को 282 से 365 सीटें देते हुए पूर्ण बहुमत दिया है. लोकसभा की 543 में से 542 पर चुनाव हुए हैं, जिसमें सरकार बनाने के लिए किसी भी दल या गठबंधन के पास बहुमत का आंकड़ा 271 होना चाहिए.

ये भी पढ़ें-

अमेठी में राहुल, मैनपुरी में मुलायम की सीट पर फंसा पेंच, जानें UP की VVIP सीटों का एग्जिट पोल

BJP की जीत वाले एग्जिट पोल को उसके ही सहयोगी AIADMK ने बताया “झूठा”

एक्ज़िट पोल के असर में 10 साल की सबसे बड़ी बढ़त के साथ बंद हुआ बाज़ार