आर्टिकल 370 पर बुकलेट बेच रहे थे कम्युनिस्ट पार्टी के नेता, पुलिस ने किया गिरफ्तार

पडाव पुलिस स्टेशन के प्रभारी प्रशांत यादव ने बताया कि CITU नेता 64 वर्षीय शेख गनी के खिलाफ दंगा भड़काने के इरादे से उकसाने का मामला दर्ज किया गया है.

मध्य प्रदेश पुलिस ने भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के एक नेता को ग्वालियर में हो रहे विरोध प्रदर्शन में ‘धारा 370- सेतु ये सुरंग’ नाम की बुकलेट बेचने को लेकर गिरफ्तार कर लिया है. आर्टिकल 370 के हटाए जाने पर आधारित ये बुकलेट स्थानीय तालाब की सफाई की मांग के लिए मुस्लिम अधिकार मंच द्वारा आयोजित एक विरोध प्रदर्शन के दौरान बेची जा रही थी.

पडाव पुलिस स्टेशन के प्रभारी प्रशांत यादव ने बताया कि CITU नेता 64 वर्षीय शेख गनी के खिलाफ दंगा भड़काने के इरादे से उकसाने का मामला दर्ज किया गया है. यादव ने कहा कि यह मामला पुलिस को मिली एक शिकायत के आधार पर दर्ज किया गया था. उन्होंने कहा कि बुकलेट भोपाल स्थित लोकजतन प्रकाशन ने प्रकाशित की गई थी.

यादव ने कहा, “हमने शिकायत मिलने के बाद इस बुकलेट की बिक्री रोक दी थी.” अधिकारी ने दावा किया कि बुकलेट के कुछ हिस्से आपत्तिजनक हैं. यह बुकलेट CPI के राज्य सचिव जसविंदर सिंह ने लिखी है, जिन्होंने बुधवार को ग्वालियर में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की थी.

किसी भी कार्रवाई के खिलाफ लड़ने को तैयार हैं हम: CPI

सिंह ने कहा, “हम इस संबंध में किसी भी कार्रवाई के खिलाफ लड़ेंगे. इस बुकलेट में कुछ भी आपत्तिजनक नहीं है, जिसे मैंने राज्य के मुख्यमंत्री कमलनाथ और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह को भी उपहार में दिया है.” उन्होंने कहा, “किताब बताती हैं कि आर्टिकल 370 जम्मू-कश्मीर के लिए क्यों महत्वपूर्ण है.” मध्य प्रदेश में अब तक बुकलेट की 15,000 प्रतियां बेची जा चुकी हैं.

उन्होंने कहा कि CPI(M) और CITU के एक वरिष्ठ नेता गनी को पुलिस ने बुलाया और मंगलवार को पूछताछ के बाद रिहा कर दिया. सिंह ने दावा किया कि पुलिस को बुकलेट में कुछ भी आपत्तिजनक नहीं मिला. उन्होंने कहा “हमारी जानकारी के मुताबिक, कोई मामला दर्ज नहीं किया गया था.”

CPI(M) नेता ने आरोप लगाया कि बीजेपी के राज्य मीडिया प्रभारी लोकेंद्र पाराशर के एक ट्वीट के बाद पुलिस ने यह कार्रवाई की. पराशर ने कहा, “जम्मू और कश्मीर रियासत के महाराजा हरि सिंह और राष्ट्रवादी ताकतों के खिलाफ महाराजा के बारे में कई आपत्तिजनक टिप्पणियां की गई हैं.”

ये भी पढ़ें: 13 सितंबर तक ED कस्टडी में रहेंगे डीके शिवकुमार