प्रज्ञा ठाकुर के बयान से बीजेपी ने पल्ला झाड़ा, कहा-हमेशा हेमंत करकरे को शहीद माना

प्रज्ञा ठाकुर के शहीद हेमंत करकरे पर दिए गए बयान को लेकर मध्य प्रदेश मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने शिकायत दर्ज की है. वहीं IPS एसोसिएशन ने बयान की निंदा की है.

भोपाल: प्रज्ञा ठाकुर के शहीद हेमंत करकरे पर दिए गए बयान को लेकर बीजेपी ने उनका निजी बयान बताया है. भाजपा की ओर से शुक्रवार को प्रेस नोट जारी किया गया. ये प्रेस नोट भाजपा के मीडिया प्रमुख अनिल बलूनी ने जारी किया. जिसमें लिखा है, “भारतीय जनता पार्टी का स्पष्ट मानना है कि स्वर्गीय श्री हेमंत करकरे आतंकवादियों से बहादुरी से लड़ते हुए वीरगति को प्राप्त हुए. भाजपा ने हमेशा उन्हें शहीद माना है.”

”जहां तक साध्वी प्रज्ञा के इस संदर्भ में बयान का विषय है, वह उनका निजी बयान है जो वर्षों तक उन्हें हुई शारीरिक और मानसिक प्रताड़ना के कारण दिया गया होगा.”

वहीं प्रज्ञा ठाकुर के शहीद हेमंत करकरे पर दिए गए बयान को लेकर मध्य प्रदेश मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने शिकायत दर्ज की है. जिसको लेकर निर्वाचन आयोग जांच करेगा. वहीं भारतीय पुलिस सेवा संघ (IPS एसोसिएशन) ने प्रज्ञा ठाकुर के बयान की निंदा की है.

प्रज्ञा ठाकुर ने मुंबई हमले में शहीद हुए हेमंत करकरे को लेकर शुक्रवार को विवादित बयान दिया उन्होंने कहा “करकरे को अपने कर्मों की सजा मिली है. मैंने उसे श्राप दिया था कि तू इसका परिणाम झेलेगा. सर्वनाश हो जाएगा, तेरा अंत हो जाएगा, और अंत में उसके साथ वही हुआ.”

प्रज्ञा ने कहा कि “मालेगांव केस में पूछताछ के दौरान मुझे इतनी गंदी गालियां दी गयी थी, जो कि मेरे लिए असहनीय थीं. हेमंत करकरे को लेकर मैंने जो भी कहा वो गलत नहीं कहा है. मुझे क्लीनचिट मिल गई है तो इसलिए अब कुछ लोग मुझसे डरे हुए हैं.”

IPS एसोसिएशन ने आधिकारिक ट्वीट में कहा, “अशोक चक्र पुरस्कार प्राप्त आईपीएस हेमंत करकरे ने आतंकवादियों से लड़ते हुए महान कुर्बानी दी थी. हम वर्दी के लोग एक उम्मीदवार के अपमानजनक बयान की निंदा करते हैं और मांग करते हैं कि हमारे सभी शहीदों की कुर्बानियों का सम्मान किया जाए.”

ये भी पढ़ें- ‘हेमंत करकरे को मिली उसके कर्मों की सजा’, मुंबई हमले में शहीद हुए अफसर को लेकर प्रज्ञा का विवादित बयान

ये भी पढ़ें- साध्वी प्रज्ञा बोलीं “दूसरों की पत्नी को भी छीन लेते हैं, क्योंकि दिल आ गया”

ये भी पढ़ें- मालेगांव ब्लास्ट केस में 11 साल बाद भी क्यों नहीं बरी हो पाईं प्रज्ञा ठाकुर, पढ़ें FACTS

 

Related Posts