कमलनाथ की सफाई, बेटे के खर्चे से लगेगी छत्रपति शिवाजी की आदमकद प्रतिमा

छत्रपति शिवाजी महाराज राष्ट्र के गौरव हैं और ऐसे गौरव के प्रतीक छत्रपति शिवाजी की प्रतिमा की स्थापना समस्त जनमानस की उपस्थिति में होनी चाहिए : कमलनाथ
Chhatrapati Shivaji Maharaj, कमलनाथ की सफाई, बेटे के खर्चे से लगेगी छत्रपति शिवाजी की आदमकद प्रतिमा

छिंदवाड़ा के सौंसर में मोहंगाव तिराहे में स्थापित की गई छत्रपति शिवाजी महाराज की मूर्ति को बीती 10 फरवरी की आधी रात को प्रशासन ने जेसीबी के माध्यम से हटवा दिया. इस घटना से प्रदेश सहित देश भर में मचे बबाल के बाद आज CM कमलनाथ के गृह जिले छिंदवाड़ा में कांग्रेस कार्यालय से एक प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से सूचना दी गई है कि 19 फरवरी के पहले छत्रपति शिवाजी महाराज की आदमकद मूर्ति CM कमलनाथ के बेटे और छिंदवाड़ा सांसद नकुलनाथ के निजी खर्चे पर लगाई जाएगी. साथ ही इस दौरान विशेष समारोह भी आयोजित किया जाएगा.

इस संबंध में सौंसर नगरपालिका के पूर्व अध्यक्ष एवं वरिष्ठ कांग्रेस नेता लक्ष्मण चाके ने बताया कि इस घटना की चर्चा जब हमने सांसद नकुलनाथ से की तो उनका कहना था यहां छोटी मूर्ति नहीं बल्कि आदमकद प्रतिमा स्थापित की जाएगी जिसका पूरा खर्च वो खुद वहन करेंगे.

प्रतिमा को लेकर उपजे विवाद पर प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि, छत्रपति शिवाजी महाराज राष्ट्र के गौरव हैं और ऐसे गौरव के प्रतीक छत्रपति शिवाजी की प्रतिमा की स्थापना समस्त जनमानस की उपस्थिति में एक उत्सव के रूप में होनी चाहिये न कि आधी रात में चोरी छिपे से. बीते दिन ऐसी कोशिश की गई लेकिन सौसर की शांतिप्रिय जनता ने यह प्रयास विफल कर दिये.

मुख्यमंत्री ने कहा कि सौसर में छत्रपति ‘शिवाजी शिवाजी की आकर्षक प्रतिमा जनभावनाओं के अनुरूप स्थापित की जाएगी. इस मामले में प्रशासन द्वारा की गयी कार्यवाही सहित पूरे घटनाक्रम की जानकारी लेने के बाद जिला कलेक्टर को प्रतिमा स्थापित करने के लिये अनुमति प्रदान करने के लिए निर्देशित किया है. इस घटना की जानकारी मिलने के बाद मामला संज्ञान में लेते हुये जिले के सांसद नकुलनाथ ने ये फैसला लिया है कि वे छत्रपति शिवाजी की आदमकद प्रतिमा की स्थापना स्वयं के खर्चे से करवायेंगे. प्रतिमा की स्थापना समारोहपूर्वक की जाएगी.’

संपूर्ण घटनाक्रम के संदर्भ में जानकारी देते हुये जिला कांग्रेस अध्यक्ष गंगाप्रसाद तिवारी ने कहा कि आधी रात को 2 बजे बाजार क्षेत्र में बिना किसी अनुमति के ‘शिवाजी की प्रतिमा स्थापित करने का प्रयास सामाजिक समरसता बिगाड़ने की एक नाकाम कोशिश रही है. कुछ तथाकथित तत्वों द्वारा प्रतिमा स्थापना को प्रतिष्ठा का प्रश्न बनाकर अनावश्यक रूप से सांप्रदायिक सौहार्द बिगाडने का प्रयास किया गया था जिसकी अनुमति किसी को भी नहीं दी जा सकती है और ऐसे प्रयास करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही भी जरूरी है.

गौरतलब है कि राष्ट्रीय स्तर की तर्ज पर भाजपा ने जिलास्तर पर भी महत्वपूर्ण मुद्दों से जनता का ध्यान हटाने के लिये अफवाहो और झूठ का सहारा लेना शुरू कर दिया है. प्रदेश और जिले की जनता को गुमराह करने का भाजपा का यह प्रयास पूरी तरह से विफल रहा है.

Related Posts