छत्तीसगढ़ के CM भूपेश बघेल ने प्रज्ञा ठाकुर को कहा ‘आदतन अपराधी’

भूपेश बघेल ने कहा कि प्रज्ञा ठाकुर जब वर्ष 2001-2002 के दौरान छत्तीसगढ़ में थी तो वहां चाकूबाजी किया करती थीं.
pragya-thakur-is-criminal, छत्तीसगढ़ के CM भूपेश बघेल ने प्रज्ञा ठाकुर को कहा ‘आदतन अपराधी’

जबलपुर: छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से भारतीय जनता पार्टी की उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को ‘आदतन अपराधी’ करार दिया है. जबलपुरसंसदीय क्षेत्र से कांग्रेस के उम्मीदवार विवेक तन्खा के समर्थन में प्रचार करने आए बघेल ने गुरुवार को संवाददाताओं से कहा, “प्रज्ञा ठाकुर जब वर्ष 2001-2002 के दौरान छत्तीसगढ़ में थी तो वहां चाकूबाजी किया करती थी. वह आदतन अपराधी है.”

मालेगांव में एक मस्जिद पर आतंकवादी हमले के आरोप में नौ साल जेल में रहीं प्रज्ञा ठाकुर संघ प्रचारक सुनील जोशी की हत्या के मामले में भी आरोपी हैं. वह ‘खराब स्वास्थ्य’ के आधार पर जमानत पर रिहा हुईं तो भाजपा ने उसे भोपाल से चुनाव का टिकट थमा दिया. स्वयं प्रधानमंत्री ने प्रज्ञा को उम्मीदवार बनाए जाने का बचाव किया है.

प्रज्ञा मालेगांव विस्फोट मामले में उन पर सख्ती बरतने वाले पुलिस अधिकारी हेमंत करकरे के बारे में बयान देकर विवाद में घिर गई हैं. मुंबई में 26/11 के हमले में आतंकवादियों से लड़ते हुए शहीद हुए हेमंत करकरे के बारे में उन्होंने कहा कि करकरे को उनका शाप लगा. हालांकि बयान की चौतरफा निंदा और पार्टी के दबाव पर उन्होंने अपना बयान वापस ले लिया है.

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान तथा तेलंगाना में हुए सेमीफाइनल मैच (विधानसभा चुनाव) में भाजपा को पराजय का सामना करना पड़ा. अपनी निश्चित पराजय को देखकर मोदी अब इंटरव्यू का सहारा ले रहे हैं, ये इंटरव्यू पूरी तरह से प्रायोजित हैं. उनके इंटरव्यू पर चुनाव आयोग को एक्शन लेना चाहिए.

बघेल ने कहा कि प्रधानमंत्री के पास जनता के सवालों का जबाव नहीं है. उनसे कोई सवाल पूछे यह भी उन्हें पसंद नहीं है. इसलिए उन्होंने पिछले पांच साल तक कोई प्रेस कांफ्रेंस नहीं की. उन्होंने प्रधानमंत्री व अक्षय कुमार के इंटरव्यू को ‘पेड न्यूज’ करार देते हुए कहा कि इस संबंध में चुनाव आयोग को संज्ञान लेकर कार्रवाई करनी चाहिए.

उन्होंने प्रधानमंत्री पर निशाना साधते हुए कहा कि वे लोगों के हाथों में झाड़ू पकड़ाकर खुद विदेश यात्रा करते हैं. पांच साल का वह हिसाब नहीं दे पा रहे हैं, इसलिए अपने काम पर नहीं, सेना के नाम पर वोट मांग रहे हैं.

Related Posts