सजा सुनते ही दोषी ने चाकू निकालकर काट ली अपनी गर्दन, जानें क्या है मामला?

मंगलावर को अपर सत्र न्यायाधीश नौरिन निगम की अदालत ने जैसे ही फैसला सुनाया आरोपी ओमकार ने चाकू से अपनी गर्दन काट ली.

मध्यप्रदेश के छतरपुर की जिला अदालत में मंगलवार को 32 वर्षीय आरोपी ओमकार अहिरवार को सज़ा सुनायी गयी लेकिन उसके बाद जो हुआ वो हैरान करने वाला है. दरअसल ओमकार का छतरपुर की लड़की से फेसबुक पर दोस्ती हुई थी. जिसके बाद से दोनों लिव इन में रह रहे थे. लेकिन 28 अक्तूबर 2015 को छतरपुर सिविल लाइन्स थाने में बलात्कार का मामला बताकर ओमकार अहिरवार के खिलाफ केस दर्ज किया गया.

मंगलावर को अपर सत्र न्यायाधीश नौरिन निगम की अदालत ने जैसे ही फैसला सुनाया आरोपी ओमकार ने चाकू से अपनी गर्दन काट ली. जिसके बाद अहिरवार को गंभीर हालत में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

अहिरवार के वकील राजेन्द्र सक्सेना ने बताया कि छतरपुर सिविल लाइन्स थाने की पुलिस ने ओमकार अहिरवार पर 28 अक्तूबर 2015 को बलात्कार का मामला दर्ज कर चालान न्यायालय में पेश किया था. आरोपी ओमकार पिछले कुछ समय से जमानत पर था.

उन्होंने बताया कि आज मामले में अपर सत्र न्यायाधीश नौरिन निगम की अदालत ने फैसला सुनाते हुए आरोपी को बलात्कार का दोषी करार दिया और उसे 10 वर्ष की कैद और 5,000 रुपये जुर्माने की सजा सुनाई. अधिवक्ता ने बताया कि सजा सुनते ही अहिरवार ने अदालत के अंदर ही चाकू से अपनी गर्दन काट ली और उसे गंभीर हालत में जिला अस्पताल में भर्ती किया गया है, जहां से बेहतर इलाज के लिये ग्वालियर भेज दिया गया है.

उन्होंने बताया कि ओमकार (32) सागर जिले के बीना का रहने वाला है और छतरपुर की लड़की से उसकी फेसबुक पर दोस्ती हुई थी तथा दोनों लिव इन में रह रहे थे.