4 साल के बच्चे को मां से मिलवाने के लिए रात में खुला कोर्ट

जेल अधीक्षक सोलंकी ने मीडिया से कहा, “मेरे नौकरी काल में यह पहला ऐसा मौका आया है, जिसमें रात में कोर्ट खुलवाने के लिए आवेदन किया गया.”
Court opened at night, 4 साल के बच्चे को मां से मिलवाने के लिए रात में खुला कोर्ट

आमतौर पर बड़ी घटनाओं को लेकर कोर्ट के रात के समय खुलने के वाकये तो पहले भी सामने आए हैं, मगर मध्यप्रदेश के सागर जिले में एक बेटे को मां से मिलने के लिए रात को कोर्ट खुला. मामला सागर के केंद्रीय जेल का है, यहां भोपाल का एक परिवार बंद है. जेल भेजी गई महिला का चार साल का बच्चा बुधवार की रात को अपनी मां से मिलने के लिए काफी रोया, रात तक वह जेल परिसर में ही बैठा रोता रहा.

जेल में बंद महिला के परिजन रहमान अली ने अधिकारियों को बताया कि चार साल का बच्चा अपनी मां से मिलने के लिए तड़प रहा है. जेल अधिकारियों ने अपनी मजबूरी बताई कि बच्चे की मां से मुलाकात संभव नहीं है.

बताया गया है कि इस पूरे घटनाक्रम से जेलर नागेंद्र सिंह चौधरी ने अधीक्षक संतोष सिंह सोलंकी को अवगत कराया. सोलंकी ने इस स्थिति से स्पेशल जज डी.के. नागले को अवगत कराया. नागले ने बच्चे की मां की तरफ से एक आवेदन कोर्ट में देने को कहा. जज रात साढ़े आठ बजे कोर्ट पहुंचे, उन्हें महिला आफरीन की तरफ से आवेदन दिया गया. इस पर जज ने बच्चे को जेल में दाखिल करने की अनुमति दी.

जेल अधीक्षक सोलंकी ने मीडिया से कहा, “मेरे नौकरी काल में यह पहला ऐसा मौका आया है, जिसमें रात में कोर्ट खुलवाने के लिए आवेदन किया गया. कोर्ट ने अपनी सर्वोच्च कर्तव्यनिष्ठा का परिचय दिया और मासूम को उसकी मां से मिलाया.”

Budget 2020 से जुड़ी सभी जानकारियों के लिए यहां क्लिक करें

Related Posts