मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर का निधन, लंबे समय से चल रहे थे बीमार

बाबूलाल गौर पिछले 15 दिनों से नर्मदा अस्पताल में भर्ती थे और उन्हें वेंटीलेटर सपोर्ट पर रखा गया था.

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता बाबूलाल गौर का निधन हो गया है. वो लंबे समय से बीमार चल रहे थे. मंगलवार को उनकी हालत और भी गंभीर हो गई थी. ब्लड प्रेशर कम होने के साथ पल्स रेट भी गिर गया था. पूर्व सीएम के निधन पर मध्यप्रदेश में 3 दिन का राजकीय शोक, आधे दिन का अवकाश घोषित किया गया.

89 वर्षीय गौर पिछले 15 दिनों से नर्मदा अस्पताल में भर्ती थे और उन्हें वेंटीलेटर सपोर्ट पर रखा गया था. पूर्व मुख्यमंत्री का इलाज कर रहे डॉक्टर ने मंगलवार को बताया था कि गौर की किडनी पूरी तरह काम नहीं कर रही हैं. आगे चलकर मल्टी ऑर्गन फेल होने की स्थिति बन सकती है.

12 बजे BJP कार्यालय में कर सकेंगे अंतिम दर्शन
बाबूलाल गौर का पार्थिव शरीर निवास ले जाया जा रहा है. गौर का शव दोपहर 12 बजे बीजेपी कार्यालय अंतिम दर्शनों के लिए रखा जाएगा. 1 बजे सुभाष नगर विश्राम घाट पर अंतिम संस्कार होगा.

गौर के निधन पर मध्य प्रदेश में तीन दिन का राजकीय शोक घोषित किया गया है. साथ ही आधे दिन के अवकाश की घोषणा भी की गई है.


‘ईश्वर दिवंगत आत्मा को श्रीचरणों में स्थान प्रदान करे’
पूर्व सीएम गौर के निधन पर बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने दुख जताया है. राकेश सिंह ने कहा, “यह कहते हुए अत्यंत दुःख हो रहा है कि हमारे मार्गदर्शक भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री श्री बाबूलाल जी गौर अब हमारे बीच नहीं रहे. उन्होंने प्रदेश में संगठन को मजबूत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी. ईश्वर दिवंगत आत्मा को श्रीचरणों में स्थान प्रदान करे.”

बता दें कि 7 अगस्त को पूर्व सीएम गौर की तबियत अचानक खराब हो गई थी. उन्हें भोपाल के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया. गौर का हाल जानने कई पार्टी नेता अस्पताल पहुंचे थे. मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्वीट कर उनके बेहतर स्वास्थ्य की कामना की थी. उनके अलावा प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ बीजेपी नेता शिवराज सिंह चौहान ने भी ट्वीट करके बाबूलाल गौर के जल्दी ठीक होने की कामना की थी.

ये भी पढ़ें-

बोरिस जॉनसन ने पीएम मोदी से की बात, कश्‍मीर पर US के बाद अब ब्रिटेन भी भारत के साथ

मुख्य साजिशकर्ता बताकर चिदंबरम को क्यों नहीं दी दिल्ली हाई कोर्ट ने जमानत? जानें

मलेशिया की सख्ती पर झुका जाकिर नाइक, नस्लीय टिप्पणी पर मांगी माफी