Aadhaar Card बनवाने गई थी लड़की, दरिंदों ने बंधक बनाकर एक महीने तक किया गैंगरेप

पीड़िता की उम्र 19 साल है. वह 10वीं तक पढ़ी है और इंदौर में नौकरी करती है.

मध्य प्रदेश के बैतूल जिले में गैंगरेप का एक सनसनीखेज मामला सामने आया है. यहां पर एक लड़की को तीन लोगों ने एक महीने तक बंधक बनाकर कई बार गैंगरेप किया. लड़की को दरिंदों ने उस वक्त अगवा कर लिया जब वो उनके पास आधार कार्ड बनवाने में मदद के लिए गई थी.

खो गया था पीड़िता का आधार कार्ड
पीड़िता की उम्र 19 साल है. वह 10वीं तक पढ़ी है और इंदौर में नौकरी करती है. कुछ दिन पहले उसका आधार कार्ड खो गया था. फिर उसने अपनी पहचान के एक लड़के से नया आधार कार्ड बनवाने के लिए मदद मांगी. लड़के का नाम छोटे पवार है.

छोटे ने लड़की को आधार कार्ड बनवाने के नाम पर आमला बुलाया. लड़की 17 सितंबर को छोटे के बुलाई गई जगह पर पहुंच गई. छोटे ने उसे आमला में एक किराए के कमरे में रखा. लड़की छोटे से बार-बार बोलती रही कि उसका आधार कार्ड बनवा दे. लेकिन वो टालता गया.

इसके बाद 9 अक्टूबर की रात को करीब 9 बजे छोटे और राम डिगया लड़की के कमरे में गए. दोनों लड़की को जबरन कमरे से बाहर लाए और एक स्कॉर्पियो में बैठा दिया. लड़की को डिगया के खेत ले जाकर दोनों ने एक के बाद एक रेप किया. उसके बाद लड़की को उसी कमरे में वापस छोड़कर चले गए.

जबरन लिखवाया सुसाइड नोट
पीड़िता ने पुलिस को बताया कि 13 अक्टूबर को उसे एक दूसरी जगह ले जाया गया. जहां मंगल यादव नाम के तीसरे आदमी ने उसका रेप किया. इसके बाद तीनों ने उससे जबरन एक सुसाइड नोट भी लिखवाया था. इसमें लिखा था कि अगर वो मर जाती है तो उसके चाचा-चाची जिम्मेदार होंगे.

पुलिस ने तीनों आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है और जांच शुरू कर दी है. पुलिस आरोपियों की तलाश कर रही है. वहीं, लड़की की हालत के बारे में जब उसके परिवार वालों को पता चला, तो वो लोग उसे लेने आमला पहुंचे हैं.

ये भी पढ़ें-

IIT रिसर्चर्स ने कचरे से बनाई ‘जैविक ईंट’, मिट्टी की ईंटों से हैं अधिक टिकाऊ

इमरान के मंत्री बोले- नौकरी के लिए सरकार की तरफ न देखें, हम तो बंद कर रहे 400 विभाग

फरवरी 2020 तक FATF की ग्रे लिस्ट में बना रहेगा पाकिस्तान, वित्त मंत्री ने खारिज किए दावे