भोपाल के इस तिराहे पर अर्जुन सिंह की प्रतिमा लगाने पर बीजेपी को है ऐतराज, पहले आजाद की थी मूर्ति

तीन साल पहले, भोपाल के विभिन्न स्थानों से पूर्व राष्ट्रपति स्वर्गीय शंकर दयाल शर्मा और महाराजा अग्रसेन की मूर्तियों सहित अन्य प्रतिमाओं के साथ चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा को बेहतर सड़क यातायात प्रबंधन के नाम पर हटा दिया गया था.

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में मूर्ति पर राजनीति शुरू हो गई है. दरअसल कमलनाथ सरकार एक तिराहे पर पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन सिंह की मूर्ति लगवाना चाहते हैं. इस चौराहे पर पहले शहीद क्रांतिकारी चंद्रशेखर आज़ाद की मूर्ति थी लेकिन तीन साल पहले शिवराज सरकार ने ट्रैफिक का हवाला देकर इसे तिराहे से हटा दिया था.

इस मामले में पूर्व मंत्री और नरेला से बीजेपी विधायक विश्वास सारंग ने मुख्यमंत्री कमलनाथ को पत्र लिखकर कहा कि हम भोपाल में टीटी नगर चौराहे पर स्वर्गीय चंद्र शेखर आजाद की प्रतिमा के स्थान पर स्वर्गीय अर्जुन सिंह की प्रतिमा लगाने का घोर विरोध करते हैं और आपत्ति दर्ज कराते हैं.

सारंग ने कहा है कि हमें स्वर्गीय अर्जुन सिंह की प्रतिमा स्थापित करने पर कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन क्रांतिकारी चंद्रशेखर आज़ाद की प्रतिमा के स्थान पर लगाई गई प्रतिमा का विरोध करते हैं.

विश्वास सारंग ने मुख्यमंत्री से सीएम आज़ाद की प्रतिमा फिर से स्थापित करने संबंधी निर्देश जारी करने की मांग की है.

वहीं पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस मुद्दे पर ट्वीट कर कहा ‘महान क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा के साथ ऐसा कृत्य, मध्यप्रदेश शर्मिंदा है. इस दुस्साहस के लिए दोषियों को तत्काल कड़ी से कड़ी सजा और उचित सम्मान के साथ मां भारती के सपूत की प्रतिमा पुनः स्थापित हो, अन्यथा देश स्वयं को कभी माफ न कर सकेगा.’

जिसके बाद कांग्रेस प्रवक्ता नरेन्द्र सलूजा ने पलटवार करते हुए कहा कि पता नहीं पूर्व सीएम शिवराज जी को आजकल सलाह कौन दे रहा है. बगैर तथ्य जाने कुछ भी आरोप लगा देते हैं, कुछ भी ट्वीट कर देते हैं. अब ट्वीट कर रहे हैं कि महान क्रांतिकारी चन्द्रशेखर आज़ाद की भोपाल के लिंक रोड नंबर 1 पर से प्रतिमा हटाने का कृत्य, दुस्साहस किसने किया, प्रदेश शर्मिंदा है. जबकि सच्चाई यह है कि उनकी सरकार में, उनकी निगम परिषद ने ही तीन वर्ष पूर्व यह प्रतिमा हटाने का दुस्साहस किया था. तीन वर्ष से यह चौराहा रिक्त था, जिस पर एक वर्ष पूर्व महापौर परिषद व निगम परिषद ने स्वर्गीय अर्जुन सिंह जी की प्रतिमा लगाने का प्रस्ताव पास किया था. इसी निर्णय का पालन हो रहा है.

बता दें कि तीन साल पहले, भोपाल के विभिन्न स्थानों से पूर्व राष्ट्रपति स्वर्गीय शंकर दयाल शर्मा और महाराजा अग्रसेन की मूर्तियों सहित अन्य प्रतिमाओं के साथ चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा को बेहतर सड़क यातायात प्रबंधन के नाम पर हटा दिया गया था.