ISI के ‘हनीट्रैप’ में फंसकर खुफिया जानकारी देने लगा था सेना का जवान, एमपी से गिरफ्तार

जवान का मोबाइल फोन सीज कर जांच के लिए साइबर लैब भेजा गया है.

भोपाल: महू में तैनात एक सैनिक को मध्‍य प्रदेश एंटी-टेररिस्‍ट स्‍क्‍वाड (ATS) और खुफिया एजेंसियों ने गिरफ्तार किया है. जवान को पाकिस्‍तान की खुफिया एजेंसी- आईएसआई के ऑपरेटिव्‍स को सोशल मीडिया पर संवेदनशील जानकारी भेजने के आरोप में पकड़ा गया है. बताया जा रहा है कि उसे ‘हनी-ट्रैप’ में फंसा लिया गया था. इस मामले की जांच एमपी ATS के अलावा, इंटेलिजेंस ब्‍यूरो (IB) और मिल‍िट्री इंटेलिजेंस (MI) कर रहे हैं.

ANI के अनुसार, यह जवान महू की इनफैंट्री बटालियन में तैनात था. आरोप है कि गोपनीय सूचनाओं के बदले पाकिस्‍तानी हैंडलर्स उससे सेक्‍स-चैट्स किया करते थे. टाइम्‍स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, जांच में पता चला कि एक महिला ने कॉलर आईडी स्‍पूफिंग के जरिए व्‍हाट्सएप पर उससे दोस्‍ती की. ISI हैंडलर्स की ओर से एक भारतीय नाम इस्‍तेमाल किया गया. जवान का मोबाइल फोन सीज कर दिया गया है, इस साइबर लैब भेजा जाएगा ताकि डिलीट किया गया डेटा रिकवर किया जा सके.

खाते में रुपये भी जमा कराए गए

गिरफ्तार किए जवान का अप्रैल 2018 में असम से महू में ट्रांसफर हुआ था. आरोप है कि डिफेंस ऑपरेशंस से जुड़ी संवेदनशील जानकारियां लीक करने के बदले एक लोकल एजेंट के जरिए उसके खाते में 50 हजार रुपये जमा कराए गए थे.

एक अधिकारी ने TOI से कहा, “ISI ने ट्रेन्‍ड महिलाओं का इस्‍तेमाल कॉल्‍स और सेक्‍स चैट्स के लिए किया. एक बार जवान ने रिक्‍वेस्‍ट एक्‍सेप्‍ट की, चैटिंग के जरिए उसे संवेदनशील जानकारी देने को फंसाया गया. जब उसे संशय हुआ तो पैसे का ऑफर दिया गया.” जवान को पुलिस रिमांड के लिए भोपाल की विशेष जिला अदालत के सामने पेश किया जाएगा. एक टीम भी उसके घर के लिए रवाना कर दी गई है.

ये भी पढ़ें

‘मिलिट्री एक्‍शन पर सिर्फ डिफेंस वाले बोलें, नेता नहीं’, करगिल हीरो कैप्‍टन विक्रम बत्रा के पिता ने कहा

CRPF जवान ने बच्चे को खिलाया अपने हिस्से का खाना, वीडियो हुआ वायरल