हनी ट्रैप कांड: कमलनाथ सरकार ने आतंकी कसाब के प्रशंसक रहे IPS अधिकारी को बनाया SIT प्रमुख

राजेंद्र कुमार ने एसएएफ प्रशिक्षण शिविर में पुलिस जवानों को जुनून के साथ काम करने के लिए आतंकी कसाब का उदाहरण दिया था.
Kamal Nath, हनी ट्रैप कांड: कमलनाथ सरकार ने आतंकी कसाब के प्रशंसक रहे IPS अधिकारी को बनाया SIT प्रमुख

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने हनी ट्रैप ब्लैकमेलिंग मामले में कुछ दिनों पहले मुख्य सचिव, डीजीपी और एसआईटी प्रमुख के साथ मीटिंग की थी. मीटिंग के अगले दिन (1 अक्टूबर) को कई पुलिस अधिकारियों के स्थानांतरण के साथ ही एसआईटी प्रमुख को भी बदल दिया गया.

सरकार की ओर से जारी आदेश में विशेष पुलिस महानिदेशक सायबर क्राइम राजेंद्र कुमार को इसकी कमान सौंपी गई. साथ ही दो सदस्यों के रूप में अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक मिलिंद कानस्कर और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक रूचि वर्धन मिश्रा को भी इस टीम में रखा गया.

‘आतंकी कसाब से सीख लेने की जरूरत’
राजेंद्र कुमार के एसआईटी प्रमुख बनाए जाने की काफी चर्चा हो रही है. दरअसल, राजेंद्र कुमार वही पुलिस अधिकारी हैं जिन्होंने मुम्बई आतंकी हमले में पकड़े गए पाकिस्तानी आतंकवादी अजमल अमिर कसाब की प्रशंसा की थी.

राजेंद्र कुमार ने साल 2010 में पुलिस जवानों को पाकिस्तानी आतंकी अजमल आमिर कसाब से सीख लेने की बात कही थी. उन्होंने एसएएफ प्रशिक्षण शिविर में पुलिस जवानों को जुनून के साथ काम करने के लिए आतंकी कसाब का उदाहरण दिया था.

राजेंद्र ने कहा था कि ‘अगर आप अच्छी तरह से प्रशिक्षित हैं तो आप कुछ भी कर सकते हैं. इसका उदाहरण पाकिस्तानी आतंकवादी अजमल कसाब है. उसने कक्षा आठ तक पढ़ाई की थी और उसके पास सिर्फ एक साल का प्रशिक्षण था. वह हथियारों और गैजेट्स और जीपीएस उपकरणों को संचालित कर सकता था. क्योंकि उसमें जुनून था और उसने बहुत अच्छा प्रशिक्षण लिया था.’

सरकार ने किया था तबादला
राजेंद्र के इस बयान की खूब आलोचना हुई थी. सरकार ने मामले में संज्ञान लेते हुए उनका तबादला पुलिस मुख्यालय भोपाल कर दिया गया था. वहीं, राजेंद्र कुमार ने सफाई देते हुए कहा था कि ’26/11 को मुम्बई के छत्रपति शिवाजी टर्मिनल में लोगों की हत्या करने वाला आतंकवादी का उदाहरण देने का मकसद सिर्फ जवनों को शूटिंग के क्षेत्र में प्रेरित करना था, ताकि वे आतंकियों को मुंहतोड़ जवाब दे सकें.’

गौरतलब है कि हनी ट्रैप मामले की जांच के लिए गठित SIT में बार- बार हो रहे बदलाब ने सरकार की मंशा पर भी सवालिया निशान लगा दिया है. सबसे पहले CID IG डी श्रीनिवास वर्मा को इस मामले की जांच करने वाली SIT का चीफ बनाया था. 24 घंटे के अंदर ही वर्मा की जगह ATS ADG संजीव शमी को SIT चीफ बनाया गया. बीते मंगलवार को एक बार फिर जांच के लिए गठित SIT में बदलाब किए गए.

ये भी पढ़ें-

तेलंगाना में फ्लाइंग इंस्टीट्यूट का ट्रेनर विमान क्रैश, दो पायलटों की मौत

भूकंप से फिर हिल गया POK, 1 की मौत, कई घायल

बारामूला में पकड़ा गया जैश का आतंकी मोहसिन सलेह, पुलिस वाले को मारने की रच रहा था साजिश

Related Posts