पीएम मोदी से मुलाकात के बाद सिंधिया ने सोनिया गांधी को इस्तीफा भेजा, कांग्रेस ने कहा-हमने निकाला

मध्य प्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया की कांग्रेस से नाराजगी को लेकर मंगलवार का दिन काफी महत्वपूर्ण हो गया. सोनिया गांधी को भेजे गए सिंधिया के इस्तीफे पर सोमवार 9 मार्च की तारीख लिखी हुई है. सिंधिया ने यह इस्तीफा ट्वीट भी किया है.
Scindia can join BJP today, पीएम मोदी से मुलाकात के बाद सिंधिया ने सोनिया गांधी को इस्तीफा भेजा, कांग्रेस ने कहा-हमने निकाला

सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पार्टी की सदस्यता से अपना इस्तीफा  भेजा. दूसरी ओर कांग्रेस की ओर से कहा गया कि पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने की वजह से उन्हें निकाल दिया गया है. इसके पहले सिंधिया केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ पीएम आवास जाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की.

मध्य प्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया की कांग्रेस से नाराजगी को लेकर मंगलवार का दिन काफी महत्वपूर्ण हो गया. सोनिया गांधी को भेजे गए सिंधिया के इस्तीफे पर सोमवार 9 मार्च की तारीख लिखी हुई है. सिंधिया ने यह इस्तीफा ट्वीट भी किया है.


मध्य प्रदेश में मंगलवार का दिन काफी महत्वपूर्ण हो चुकाहै. आज तय हो जाएगा कि कमलनाथ सरकार रहेगी या फिर गिर जाएगी. बगावती तेवर दिखा रहे कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया आज बीजेपी ज्वाइन कर सकते हैं. उसके बाद सिंधिया के समर्थक मंत्री और विधायक इस्तीफा देने लगे हैं. कांग्रेस के 21 से 24 विधायक अपना इस्तीफा राज्यपाल और विधानसभा को ईमेल करने लगे हैं. 13 विधायकों के ईमेल राज्यपाल को भेजे जा चुके हैं.

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ग्वालियर जाना टालकर कांग्रेस हाईकमान के नए प्रस्ताव पर फिलहाल नाराज रुख अख्तियार किया हुआ था. उनके पिता माधवराव सिंधिया की मंगलवार को 10 मार्च को 75वीं जयंती है. माना जा रहा था कि इस दिन सिंधिया बड़ा ऐलान कर सकते हैं. भारतीय जनता पार्टी उनके अगले कदम का इंतजार कर रही है.

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मंगलवार सुबह गृहमंत्री अमित शाह के साथ पीएम आवास जाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की. पीएम मोदी के साथ उनकी बैठक एक घंटे तक चली. बैठक में अमित शाह भी मौजूद थे. बैठक के बाद सिंधिया गृह मंत्री की गाड़ी से ही बाहर निकले.

बीजेपी सिंधिया को राज्यसभा भेज सकती है

कमलनाथ सरकार के गिरने की स्थिति में बनने वाली नई सरकार में बीजेपी सिंधिया खेमे को एक उपमुख्यमंत्री पद भी दे सकती है. सिंधिया तक बात पहुंचा दी गई है. वहीं बीजेपी की ओर से उन्हें राज्यसभा भी भेजा जा सकता है. पार्टी सूत्रों के मुताबिक, रविवार रात को ही मध्य प्रदेश में चल रही राजनीतिक उठापठक की पटकथा लिख दी गई थी. बीजेपी की ओर से केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और धर्मेद्र प्रधान ने सिंधिया से मुलाकात की थी. इसमें प्रस्तावों पर सहमति बनने के बाद ही सभी सिंधिया समर्थकों को भोपाल से दिल्ली बुला लिया गया था. इसके बाद ही कांग्रेस नेतृत्व पर दबाव बना था.

पूरे मामले पर बीजेपी की पैनी नजर

दूसरी ओर मध्य प्रदेश के मुद्दे पर बीजेपी ने अपना स्टैंड साफ कर दिया है. उनका कहना है कि ये कांग्रेस की अंदरूनी लड़ाई है जिसपर उसे कुछ कहना या करना नहीं है. बीजेपी पूरे घटनाक्रम पर नजर बनाए हुई है. उचित समय आने पर सही फैसला लिया जाएगा.

इस बीच सोमवार रात नेताओं की केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के निवास पर एक महत्वपूर्ण बैठक हुई. इस बैठक में पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की भूमिका और प्रदेश में राजनीतिक संभावना पर विचार किया गया. ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से बातचीत करने से इनकार के बाद संभव है कि वे मंगलवार को दिल्ली या भोपाल में बीजेपी नेताओं के साथ बैठक कर सकते हैं.

आज शाम बीजेपी विधायक दल की बैठक

मंगलवार शाम सात बजे भोपाल में बीजेपी विधायक दल की बैठक होने वाली है. इसमें पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को विधायक दल का नेता चुना जा सकता है. शिवराज सिंह चौहान और नरोत्तम मिश्रा भोपाल पहुंच गए. इस बैठक में बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और मध्य प्रदेश के प्रभारी विनय सहस्त्रबुद्धे भी शामिल होंगे.

कमलनाथ सरकार के मंत्रियों का इस्तीफा

मध्य प्रदेश के करीब डेढ़ दर्जन विधायकों के फोन बंद कर बेंगलुरू में डेरा जमा लेने के बाद से कमलनाथ सरकार पर संकट के बादल छाए हुए हैं. ये सभी विधायक ज्योतिरादित्य सिंधिया खेमे के बताए जाते हैं. सोमवार को कमलनाथ सरकार के 20 मंत्रियों ने उन्हें अपना इस्तीफा सौंप दिया था.

Related Posts