सूखे कुएं में गिरा बाघिन का बच्चा, दो दिन तक मां देती रही पहरा

शावक को इलाज के लिए मुकुंदपुर वॉइट टाइगर सफारी भेजा गया है. वन विभाग के मुताबिक, शावक को बड़ी चोटें नहीं आई हैं.

मामला मध्य प्रदेश के कटनी जिले का है एक बाघिन अपने शावक के कुएं में गिर जाने पर दो दिनों तक उसकी रखवाली करती रही. इसके बाद जब स्थानीय लोगों ने वन विभाग को सूचित किया तो उनकी मदद से शावक को कुएं से बाहर निकाला गया. फिलहाल शावक का इलाज चल रहा है. पूरी तरह से ठीक होने के बाद वन विभाग उसे जंगल में छोड़ देगा.

कटनी के बरही वन क्षेत्र के पिपरिया गांव में कुछ दिनों पहले एक बाघिन को तीन शावकों के साथ घूमता देखा गया. जिनमें से एक शावक सूखे कुएं में गिर गया. इसके बाद बाघिन ने दो दिनों तक वो जगह नहीं छोड़ी और कुएं के पास ही एक पहाड़ी पर पहरा देती रही.

पहले तो गांव के लोगों को बाघिन को पहाड़ी पर देख कुछ समझ नहीं आया लेकिन जंगल से गुजर रहे चरवाहों ने कुएं से आ रही आवाजों को सुना और उन्हें पूरा मामला समझ आया. चरवाहों ने कुएं के अंदर झांककर देखा और पाया कि उअंदर बाघिन का एक शावक फंसा हुआ है.

इसकी सूचना उन्होंने स्थानीय लोगों को दी और ग्रामीणों ने इस बात की सूचना वन विभाग के अधिकारियों को दी. इसके बाद वन विभाग के अधिकारियों ने रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया और शावक को कुएं से बाहर निकाला. शावक को इलाज के लिए मुकुंदपुर वॉइट टाइगर सफारी भेजा गया है.

वन विभाग के मुताबिक, शावक को बड़ी चोटें नहीं आई हैं, वो खतरे से बाहर है और रिकवर कर रहा है. शावक के ठीक होते ही उसे वापस जंगल में छोड़ दिया जाएगा.

ये भी पढ़ें- ‘बाढ़ के पानी में डूब गई एंकर’ Video हुआ वायरल