साध्वी प्रज्ञा बोलीं “दूसरों की पत्नी को भी छीन लेते हैं, क्योंकि दिल आ गया”

गुरुवार को भोपाल में साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने एक सभा आयोजित की जिसमें उन्होंने दिग्विजय सिंह पर निशाना साधा.

भोपाल: लोकसभा चुनाव में भोपाल संसदीय सीट से भाजपा उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने एक सभा आयोजित की जिसमें उन्होंने कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय सिंह पर निशाना साधा. उन्होंने कहा “विधर्मियों को क्या पता कि देश भक्तों में क्या शक्ति होती है. वो तो रुपयों पे भी बिक जाते हैं. वो तो कपड़ों पे भी बिक जाते हैं. विधर्मियों को क्या मालूम वो तो दूसरों की पत्नि को भी छीन लेते हैं. क्योंकि दिल आ गया. एक उसके पति को बाद में तलाक दिलवा दिया जाता है.”

उन्होंने कहा कि “जो संन्यास काल होता उस उम्र में अपनी बेटी की उम्र से उम्र की किसी की पत्नी को छीनकर के लाना ये कितना बड़ा अपराध है. एक रावण, माता सीता को लेकर गया. मैं एक स्त्री की बात कर रही हूं. माता सीता को अपहरण करके लेकर गया. राम जी ने उसके कुल का विनाश कर दिया. मैं कहती हूं किसी भी प्रकार से मनसा, वाचा, कर्मणा किसी भी प्रकार से ये द्रोह है.”

स्त्री का सम्मान ना करना, किसी की स्त्री को छीन लेना, षड्यंत्र के तहत उसके पति को उससे अलग कर देना यह दुराचार है. यह दुष्चरित्रता है भले ही उसको फिर बाद में राजनीतिक उपयोग कर उससे यह कहलवा दिया जाए की कि हम तो तुम्हारे हैं. मजबूरी में हर कोई सीता माता नहीं हो पाता.”

और ये दुष्चरित्रता उन्होंने हमारे ऊपर भी थोपना चाही. लेकिन उन्हें नहीं पता कि संन्यासी किसे कहते हैं. राष्ट्र भक्त और राष्ट्र पर समर्पित होने वाले लोगो को क्या कहते हैं, तो उन्होंने साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को देख लिया, समझ लिया कि ये वो शक्ति होती है कि हम घुटने के बल हो जाये वो नाक रगड़ रगड़ के रह गये लेकिन वो जो कहलवाना चाह रहे थे वो मैं एक बार भी नहीं बोली. मैंने यही कहा तुम मुझे तोड़ दोगे, फोड़ दोगे, खत्म कर दोगे, लेकिन तुम जो  देश के विरुद्ध षड्यंत्र कर रहे हो वो मैं कभी सिद्ध नहीं होने दूंगी और न ही होने दिया.”

उन्होंने कहा कि, ”मेरा एनकाउंटर करने का भी प्रयास किया गया. कुंत्सिक मानसिकता के लोग जो षड्यंत्र कर रहे हैं और भगवा को आतंक कहने वाले और भगवा का जो बलात्कार कर रहे हैं उनसे हमें सावधान रहना है. 16 वर्ष पहले 10 वर्षों का जिनका शासनकाल देखा, बस अंत हो गया उनका. वाहन तो दूर उनको पैदल चलने का भी अधिकार नहीं हैं. भोपाल के समुचित विकास के लिए ऐसे लोगो को भगा दीजिए. इनकी छाया भी नहीं पड़नी चाहिए.”

ये भी पढ़ें- मुझे आतंकी कहने वाले दिग्विजय को भोपाल मत आने देना, बोलींं साध्वी प्रज्ञा, देखें VIDEO

ये भी पढ़ें- जनसभा में रो पड़ीं साध्‍वी प्रज्ञा, बोलीं- पीटने वाले बदल जाते थे, पर पिटने वाली मैं ही रहती, देखिए VIDEO