‘इंदौर जलाने’ के बयान पर घिरे कैलाश विजयवर्गीय, दिग्विजय सिंह बोले- यही RSS के संस्कार

पुलिस ने शनिवार देर रात कैलाश विजयवर्गीय, सांसद शंकर लालवानी, विधायक रमेश मेंदोला, महेंद्र हार्डिया सहित 350 नेता-कार्यकर्ताओं पर धारा 188 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है.
digvijaya singh slams on kailash vijayvargiya controversial remark, ‘इंदौर जलाने’ के बयान पर घिरे कैलाश विजयवर्गीय, दिग्विजय सिंह बोले- यही RSS के संस्कार

बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के इंदौर जलाने वाले बयान पर कांग्रेस भड़क गई है. मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने इस मामले को लेकर आरएसएस पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि कैलाश विजयवर्गीय ने आरएसएस से जो संस्कार सीखे हैं वही बयान देंगे. जला दो, मार दो, काट दो, ये सब आरएसएस के संस्कार हैं. दिग्विजय सिंह ने इंदौर से लौटते समय सिंधी विस्थापितों के पट्टे की समस्या पर कहा कि मैंने अपने कार्यकाल में पट्टे दिए थे, जो बचे हैं उन्हें भी दिए जाएंगे.

बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने कैलाश विजयवर्गीय का बचाव करते हुए कहा कि पार्टी कांग्रेस के खिलाफ मोर्चा खोलेगी. एक-एक करके बीजेपी कार्यकर्ताओं के घर और प्रतिष्ठान तोड़े जा रहे हैं, उन पर कांग्रेस में शामिल होने का दबाव बनाया जा रहा है. कैलाश विजयवर्गीय इसी को लेकर प्रशासन से बात करने गए थे. मेरी उनसे चर्चा हुई है. मैंने बयान नहीं सुना है लेकिन कांग्रेस गलत कर रही है.

कैलाश विजयवर्गीय सहित बीजेपी के 350 नेताओं-कार्यकर्ताओं पर केस दर्ज

उधर मध्य प्रदेश में माफिया पर कार्रवाई के बीच बीजेपी कार्यकर्ताओं को नोटिस भेजा गया, इस पर नाराज होकर संभागायुक्त के घर के बाहर धरना देना उन्हें महंगा पड़ गया है. पुलिस ने शनिवार देर रात कैलाश विजयवर्गीय, सांसद शंकर लालवानी, विधायक रमेश मेंदोला, महेंद्र हार्डिया सहित 350 नेता-कार्यकर्ताओं पर धारा 188 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है.

संयोगितागंज थाना प्रभारी नरेंद्र सिंह रघुवंशी ने रविवार को बताया कि शुक्रवार को दोपहर रेजीडेंसी क्षेत्र में बिना इजाजत किए गए धरना प्रदर्शन को लेकर तहसीलदार की शिकायत पर लगभग 350 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है.

बता दें कि दो दिन पहले विजयवर्गीय ने आरोप लगाया था कि सत्तारूढ़ कांग्रेस के इशारे पर स्थानीय प्रशासन बीजेपी कार्यकर्ताओं के खिलाफ पक्षपातपूर्ण कार्रवाई कर रहा है. वायरल वीडियो में विजयवर्गीय कह रहे हैं ‘आखिर कोई प्रोटोकॉल होता है या नहीं? हम सरकारी अधिकारियों से लिखित निवेदन कर रहे हैं कि हमें उनसे मिलना है. क्या वे हमें यह सूचना भी नहीं देंगे कि वे शहर से बाहर हैं? यह अब हम बिल्कुल बर्दाश्त नहीं करेंगे. हमारे संघ के पदाधिकारी (यहां) हैं नहीं तो आज आग लगा देता इंदौर में.’

ये भी पढ़ेंः

कांग्रेस पर बरसीं बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर, कहा- नागरिकता कानून और सावरकर पर भ्रम फैला रही है

धार्मिक सौहार्द की मिसालः केरल की मस्जिद में गूंजेंगे मंत्र, हिंदू रीति-रिवाज से होगी शादी

Related Posts