मध्‍य प्रदेश लेक्‍चरर की भविष्‍यवाणी- BJP लगभग 300 सीट जीतेगी, कांग्रेस सरकार ने किया सस्‍पेंड

सस्‍पेंड किए गए लेक्‍चरर ने कहा है कि उन्‍हें अपना पक्ष रखने का मौका नहीं दिया गया. उन्‍होंने कहा कि वे सस्‍पेंशन ऑर्डर के खिलाफ हाई कोर्ट जाएंगे.

नई दिल्‍ली: मध्‍य प्रदेश के एक लेक्‍चरर को लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की जीत की भविष्‍यवाणी करने पर सस्‍पेंड कर दिया गया है. मामला उज्‍जैन की विक्रम यूनिवर्सिटी का है जहां संस्‍कृत पढ़ाने वाले राजेश्‍वर शास्‍त्री मुसलगांवकर ने ज्‍योतिष के आधार पर यह दावा किया था. उन्‍होंने 29 अप्रैल को फेसबुक पर लिखा था, “BJP 300 के पास और NDA 300 के पार”. इसी के बाद कांग्रेस नीत सरकार के उच्‍च शिक्षा विभाग ने मध्‍य प्रदेश विश्‍वविद्यालय एक्‍ट, 1973 के आधार पर अनुशासनात्‍मक कार्रवाई की सिफारिश की.

उज्‍जैन के एक कांग्रेस कार्यकर्ता ने मुसलगांवकर की शिकायत जिला रिटर्निंग अधिकारी से की थी. कार्यकर्ता का तर्क था कि एक सरकारी कर्मचारी का किसी राजनैतिक पार्टी के पक्ष में भविष्‍यवाणी करना आदर्श आचार संहिता का उल्‍लंघन है, उन्‍हें मध्‍य प्रदेश सिविल सर्विसेज (कंडक्‍ट) रूल्‍स के तहत सजा दी जानी जाहिए. शिकायतकर्ता राज्‍य यूथ कांग्रेस का सचिव है और उसने कहा कि मुसलगांवकर ने 29 अप्रैल को भविष्‍यवाणी की थी, तब राज्‍य में मतदान का पहला चरण था. उसने कहा कि एक बीजेपी कार्यकर्ता ने वोटिंग को प्रभावित करने के लिए यह भविष्‍यवाणी ट्वीट की थी.

रिटर्निंग अधिकारी ने निलंबन की सिफारिशत करते हुए मंडलीय आयुक्‍त को चिट्ठी लिखी थी. 7 मई को मुसलगांवकर को सस्‍पेंड कर दूसरे विभाग से अटैच कर दिया गया.

लेक्‍चरर का दावा- किसी और ने किया पोस्‍ट

मुसलगांवकर ने एक अंग्रेजी अखबार से बातचीत में कहा कि वह राजनैतिक रूप से तटस्‍थ हैं. उन्‍होंने दावा किया कि उनकी भविष्‍यवाणी का मकसद किसी राजनैतिक दल को फायदा पहुंचाना नहीं था, वह केवल एक छात्र के सवाल का जवाब दे रहे थे. 55 वर्षीय लेक्‍चरर ने कहा कि वह वर्तमान राजनैतिक हालातों का अध्‍ययन कर रहे थे और विभिन्‍न राजनैतिक दलों पर ग्रहों के प्रभाव का अनुमान लगा रहे थे. उन्‍होंने दावा किया कि एक छात्र ने बिना उनकी जानकारी के उनके फोन से कमेंट पोस्‍ट किया था.

ये भी पढ़ें

राजस्थान के स्कूलों में पढ़ाई जाने वाली सावरकर की जीवनी में बदलाव करेगी कांग्रेस सरकार

इंटरनेट, ई-मेल और डिजिटल कैमरा, भारत में कब आई ये सुविधाएं?

(Visited 1,010 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *