हनी ट्रैप मामले की रिपोर्ट छापने वाला अखबार सील, संपादक के घर और ऑफिस पर पुलिस की छापेमारी

छापेमारी के बाद से ही संझा लोकस्वामी अखबार के संपादक जीतेंद्र सोनी लापता हैं, जबकि उनके बेटे अमित को हिरासत में ले लिया गया है.

मध्य प्रदेश के एक सांध्य अखबार संझा लोकस्वामी द्वारा चर्चित हनी ट्रैप मामले से जुड़ी तस्वीरें और रिपोर्ट्स अपनी वेबसाइट पर छापने के बाद पुलिस ने इसके संपादक जीतेंद्र सोनी के घर और ऑफिस पर छापेमारी की. संझा लोकस्वामी की वेबसाइट से एक वीडियो भी अपलोड किया गया था.

जानकारी के मुताबिक पुलिस ने शुक्रवार को संपादक सोनी के घर, होटल, रेस्तरां और नाइट क्लब में यह छापेमारी की. जो कि रात भर चलती रही. छापेमारी के बाद से ही संझा लोकस्वामी अखबार के संपादक जीतेंद्र सोनी लापता हैं, जबकि उनके बेटे अमित को हिरासत में ले लिया गया है. मालूम हो कि पुलिस ने अखबार के दफ्तर को सील कर दिया है.

एक पूर्व मंत्री और ताकतवर नौकरशाह के खिलाफ रिपोर्ट्स पब्लिश करने के बाद ये अखबार पिछले तीन दिनों से हनी ट्रैप मामले पर स्टोरी छाप रहा था. इसी के साथ अखबार ने दावा किया था कि उसके पास और भी नेताओं और नौकरशाहों के वीडियो और ऑडियो हैं, जिनपर वह आगे भी रिपोर्ट पब्लिश करेगा.

हरभजन सिंह की शिकायत पर शुरू हुआ था हनी ट्रैप मामला

मालूम हो कि सितंबर महीने में इंदौर नगर निगम के इंजीनियर हरभजन सिंह की शिकायत पर इंदौर पुलिस ने पांच महिलाओं और एक ड्राइवर को गिरफ्तार किया था, जोकि बाद में हनी ट्रैप मामले के तौर पर सामने आया.

हरभजन सिंह ने महिलाओं पर आरोप लगाया था कि वह उसे धमका रही थीं कि अगर वह उन्हें 3 करोड़ रुपए नहीं देता है तो वह उसकी आपत्तिजनक तस्वीरें और वीडियो वायरल कर देंगी. संझा लोकस्वामी अखबार की एक रिपोर्ट में हरभजन की दो महिलाओं के साथ की तस्वीरें पब्लिश की थी.

इसी के साथ रिपोर्ट में यह आरोप भी लगाया गया कि सिंह खुद इस घोटाले में शामिल थे, लेकिन पुलिस को शिकायत दर्ज करने के लिए उन्हें मजबूर किया गया, ताकि महिलाओं के परिसरों पर छापा मारा जा सके और कई प्रतिष्ठित लोगों की साख बचाने के लिए महिलाओं के पास मौजूद इलेक्ट्रॉनिक और अन्य सबूतों के डेटा को कब्जे में लिया जा सके.

पुलिस के साथ आबकारी, राजस्व, नारकोटिक्स ने भी मारा छापा

इसके बाद सिंह की शिकायत पर जितेंद्र सोनी के खिलाफ शुक्रवार को आईटी एक्ट की धारा 67 और 67ए के तहत एमआईजी पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज किया गया. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के मुताबिक अखबार ने तस्वीर और दो लोगों के बीच के संवाद को छापने के साथ ही आईटी एक्ट का उल्लंघन किया है.

इंदौर की एसएसपी रूचि वर्धन मिश्रा ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि हरभजन सिंह ने न केवल तस्वीरों के बारे में शिकायत की थी, बल्कि सोनी के व्यापारिक प्रतिष्ठानों में अन्य अनियमितताओं के बारे में भी बताया था. उन्होंने बताया कि छापेमारी के दौरान पुलिस बल के साथ आबकारी, राजस्व, नारकोटिक्स विभाग और इंदौर नगर निगम के अधिकारी भी थे.

मानव तस्करी और आर्म्स एक्ट के तहत भी मामला दर्ज

रुची मिश्रा के मुताबिक सोनी द्वारा चलाए जा रहे माय होम रेस्टोरेंट एंड बार के डायरेक्टर्स के खिलाफ मानव तस्करी का मामला भी दर्ज किया गया है, क्योंकि उन्हें वहां पर पश्चिम बंगाल और नॉर्थ ईस्ट की कुछ महिलाओं को भी देखा जो दयनीय हालातों में वहां रह रही थीं. मिश्रा के मुताबिक महिलाओं ने बताया कि उन्हें जबरन नचाया जाता है.

पुलिस ने वहां से कुछ कार्टेज भी बरामद किए हैं, जो कि लाइसेंस्ड पिस्टल से मेल नहीं खाते हैं, ऐसे में पुलिस ने आर्म्स एक्ट के तहत भी मामला दर्ज किया है. पुलिस का दावा है कि उन्होंने कई इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस भी सोनी के ऑफिस से जब्त की हैं, जिनका संबंध हनी ट्रैप मामले से हो सकता है.

ये भी पढ़ें: फिर कोर्ट की चौखट पर अयोध्‍या केस, जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने दाखिल की रिव्यू पिटीशन