मॉब लिंचिंग की घटनाओं से परेशान, नाम बदलना चाहते हैं MP के ये मुस्लिम अधिकारी

'भीड़तंत्र द्वारा हाल में जिस तरीके से न्याय के नाम पर हिंसा हो रही है उससे समाज के लोगों में दहशत का माहौल है.'

भोपाल: मध्य प्रदेश में राज्य प्रशासनिक सेवा के अधिकारी नियाज अहमद खान अपनी मुस्लिम पहचान को लेकर चिंतित है.

इतना ही नहीं वो अपना नाम बदलने पप भी विचार कर रहे हैं. दरअसल हाल के दिनों में गोरक्षा के नाम पर देश के कई हिस्सों में मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाए जाने की घटना सामने आई है. नियाज़ समाज में हो रही हिंसक घटनाओं से आहत हैं और अपना भविष्य सुरक्षित बनाए रखने के लिए पहचान बदलने की बात कर रहे हैं.

नियाज खान फिलहाल परिवहन विभाग में कार्यरत हैं. उन्होंने शनिवार को अपनी एक किताब का मुख्य पृष्ठ ट्विटर हैंडल पर डालते हुए लिखा, ‘पिछले 6 महीने से मैं इस किताब का और अपना नया नाम ढूंढ़ रहा हूं जिससे मैं अपनी मुस्लिम पहचान छिपा सकूं. लोगों की नफ़रत से बचने के लिए अपनी पहचान बदलना ज़रूरी है.’

उन्होंने आगे ट्वीट करते हुए लिखा, ‘मेरा नया नाम मुझे हिंसक भीड़ से बचाएगा. अगर मेरे पास टोपी, कुर्ता और दाढ़ी नहीं होगी तो मैं भीड़ को अपना नकली नाम बताकर आसानी से बच जाऊंगा. हालांकि, मेरे भाई ने अगर पारंपरिक कपड़े पहने हों तो वह बहुत ही खतरनाक स्थिति में है. क्योंकि कोई भी संस्था हमें बचाने में सक्षम नहीं है, इसलिए बेहतर होगा कि हम अपना नाम बदल लें.’

नियाज खान ने बॉलीवुड के मुस्लिम अभिनेताओं को भी सलाह दी है कि वह अपना नाम बदल लें. नियाज खान ने लिखा, उनके समुदाय से जुड़े बॉलीवुड एक्टर भी अपनी फिल्मों को बचाने के लिए नाम बदल लें. अब तो टॉप स्टार्स की भी फिल्में फ्लॉप होने लगी हैं उन्हें इसका मतलब समझना चाहिए.

हालांकि इस बारे में जब उनसे मीडिया ने सवाल किया तो उनका कहना है कि ‘भीड़तंत्र द्वारा हाल में जिस तरीके से न्याय के नाम पर हिंसा हो रही है उससे समाज के लोगों में दहशत का माहौल है. मैनें यह ट्वीट उसी संदर्भ में लिखा है.’

उनसे पत्रकारों ने मध्य प्रदेश के परिपेक्ष्य में जब यह पूछा कि यहां तो मॉब लिचिंग को लेकर क़ानून भी है फिर आपको डर क्यों लग रहा है. इसके जवाब में उन्होंने कहा, ‘यह अचछा है लेकिन देश के अन्य हिस्सों में भी इस तरह की घटना हो रही है. ऐसे में किसी अन्य राज्य में जाते हुए डर लगता है.’

और पढ़ें- जडेजा-मांजरेकर विवाद पर बोले रोहित शर्मा, कहा- हमें अपने काम पर ध्यान देना चाहिए

नियाज इससे पहले भी मुस्लिम पहचान की वजह से बड़े अधिकारियों द्वारा भेदभाव किए जाने की बात कहते रहे हैं और ट्विटर पर कई पोस्ट भी किए हैं.