भारी बारिश के कहर से बेहाल मध्य प्रदेश, कई जिलों में नदियां उफान पर, स्कूल-कॉलेज बंद

राज्य के अलग-अलग हिस्सों में हो रही बारिश ने अब लोगों की परेशानियां बढ़ाना शुरू कर दी हैं. पूरे मध्य प्रदेश में अगले 3-4 दिनों तक बारिश की चेतावनी है.

मध्य प्रदेश में शनिवार से जारी हुई बारिश का सिलसिला रविवार को भी जारी है. दो दिनों की बारिश ने मध्य प्रदेश का हाल-बेहाल कर दिया है. नदी-नाले उफान पर हैं. भोपाल और विदिशा में बारिश की वजह से कई घरों में पानी भर गया.

राज्य के अलग-अलग हिस्सों में हो रही बारिश ने अब लोगों की परेशानियां बढ़ाना शुरू कर दी हैं. पूरे मध्य प्रदेश में अगले 3-4 दिनों तक बारिश की चेतावनी है. भोपाल समेत कई जिलों में आज स्कूल-कॉलेज बंद हैं.

रेलवे ट्रेक पानी में डूबा

भारी बारिश की वजह से भोपाल के रेलवे ट्रेक पर पानी भर गया है. जानकारी के मुताबिक कई वर्षों बाद ऐसा मौका आया जब रेलवे स्टेशन की पटरियां पानी में डूब गईं. जिससे रेलवे यातायात बुरी तरह प्रभावित हो रहा है.

32 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट

भोपाल में 58 साल बाद सितंबर में 1 दिन की सबसे ज्यादा 4 इंच बारिश दर्ज की गई है. जिसके बाद भोपाल में सितंबर का 16.87 सेंटीमीटर का कोटा पूरा हो गया है. इससे पहले 2 सितंबर 1961 को भोपाल में 4.4 इंच बारिश हुई थी. मौसम विभाग ने आज भोपाल समेत 32 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया.

डैम के गेट खुलने से जलस्तर बढ़ रहा

प्रदेश के जिला विदिशा में बेतवा नदी का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है. आस पास के इलाकों में पानी भर गया है. निचले इलाकों को खाली कराया गया है. पूरी रात हुई बारिश से हाहाकार मच गया है. स्थानीय लोगों का कहना है कि इतना पानी उन्होंने पहले नहीं देखा.

मंदिर, नदी किनारे के घर पानी की भेंट चढ़ गए हैं. आवाजाही भी रुक गई है. रायसेन और विदिशा के बीच का संपर्क मार्ग भी बंद हो चुका है. भोपाल के कलियासोत डैम के गेट खुलने से जलस्तर और तेजी से बढ़ रहा है.

भारी बारिश से बांध लबालब

राज्य में भारी बारिश के चलते बांध लबालब हो गए और निकासी के लिए गेट खोलने पड़े हैं. राजधानी भोपाल में कलिया शोत डैम के 6 खोल दिए गए हैं. भदभदा डैम के भी 4 गेटों को फिर से खोला गया है.

इसके अलावा कोलार डैम का लेवल 460.60 मीटर पहुंचा, जो अब फुल होने से महज 1.6 मीटर कम है. फुल होते ही कोलार डैम के भी गेट खोले जाएंगे. जिसके मद्देनजर आसपास के इलाकों में हाई अलर्ट जारी किया गया है. लंबे सालों के इंतजार के बाद इस बार कोलार डैम के गेट खुल सकते हैं.

नर्मदा घाट जलमग्न

जबलपुर में भी भारी बारिश के चलते बरगी बांध के 21 गेट खोल दिए गए हैं. पिछले करीब 5 सालों के बाद बरगी बांध के 21 गेट खोले गए हैं. इस मौके पर पुलिस और प्रशासन ने नर्मदा नदी किनारे की बस्तियों के निवासियों को सतर्क कर दिया है. जिसकी वजह से तमाम नर्मदा घाट जलमग्न हो गए हैं.

ये भी पढ़ें- मध्य प्रदेश में भारी बारिश का कहर, कहीं 2 साल की बच्ची तो कहीं बैल बना उफनती नदी का शिकार

ये भी पढ़ें- जापान पर मौत बन कर मंडरा रहा है फैक्शाई तूफान, हवाई-रेल यातायात सब बंद